- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

गांधी को हिन्दी सिखाने वाले पीर मुहम्मद मूनिस ने ही सबसे पहले हिन्दी को राष्ट्र भाषा बनाने की वकालत की! | जहाँ लक्ष्मी कैद है --- राजेंद्र यादव | क्‍लॉड ईथरली--- गजानन माधव मुक्तिबोध | कैराना का किराना घराने से नाता-- मंगलेश डबराल | ये वो मंज़िल तो नहीं........--क्या धर्मपरिवर्तन से रोहित के सपने पूरे हो जायेंगे ?-- जीवेश प्रभाकर | शायद ही झुके बीजेपी सरकार मुस्लिम नेतृत्व के आगे | ये वो सहर तो नहीं जिसकी आरज़ू लेकर...... बयादे रोहित वेमुला (=जीवेश प्रभाकर= ) | कामरेड कवि की तेजस्वनी रचनाएं : डॉ. गंगा प्रसाद बरसैंया | एक गोभक्त से भेंट--- हरिशंकर परसाई | अपील का जादू---- हरिशंकर परसाई |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
ये वो मंज़िल तो नहीं........--क्या धर्मपरिवर्तन से रोहित के सपने पूरे हो जायेंगे ?-- जीवेश प्रभाकर
Share |

तो रोहित की मां ओर भाई ने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया । सामाजिक न्याय और समानता के संघर्ष का आदर्श माने जाने वाले बाबा साहेब आंबेडकर की 125 वीं जयंती पर दोनो ने बौद्ध धर्म स्वीकार किया । बहुत से लोग खुश हैं। ठीक है। यह उनका निजि फैसला है तब तक इस पर पर कुछ कहा नहीं जा सकता और न उन्हें रोका जा सकता है । व्यक्तिगत रूप से आप इससे संतुष्ट भी हो सकते हैं क्योंकि मेरी नज़र में धर्म निहायत ही निजि किस्म का मसला है । बात यदि निजि मसले की होती तो कोई हर्ज नहीं था मगर जब आप इसे सार्वजनिक रूप से उस आईकॉन, रोहित, के नाम का सहारा लेकर प्रचारित प्रसारित करते हैं जो सामाजिक न्याय व समानता की जंग का पर्याय बन चुका है, तो इसके परिणाम सार्वजनिक स्तर पर ही आंके जायेंगे। हो सकता है मंशागत इससे हिन्दू धर्म के ठेकेदारों और हिन्दुत्ववादियों को नीचा दिखाया जा सके या कट्टरपंथियों को तिरस्कृत किया जा सके, दूसरी ओर बौद्ध धर्म के लोग इसे अपनी जीत के तौर पर पेश करें और गौरवान्वित भी हों। मगर सामाजिक समानता और समरसता की लड़ाई लड़ रहे पहले रोहित और अब उनके साथियों जैसे बहुसंख्यक युवा जुझारुओं के साथ साथ उन युवाओं को परोक्ष रूप से नैतिक व बौद्धिक समर्थन दे रहे व संघर्षरत मुझ जैसे असंख्य लोगों लिए यह अत्यंत दुखदायी और स्तब्ध कर देने वाला निर्णय है ।चूंकि मै दृढ़तापूर्वक इस बात को मानता हूं कि धर्म परिवर्तन एक कुँए से निकलकर दूसरे अन्धे कुँए में कूद जाने से ज्यादा कुछ नहीं है। निश्चित रूप से हिन्दू धर्म की वर्ण व्यवस्था में दलितों एवं पिछड़ों के प्रति घोर घृणा और तिरस्कार का भाव मिलता है । अत्याचार,प्रताड़ना और अपमान की एक शर्मनाक दीर्घकालिक परम्परा रही है । ये सदियों से होता आया है और बहुत बड़े पैमाने पर आज भी बदस्तूर जारी है । कमोबेश हर धर्म में इस तरह के भेदभाव होते आए हैं और आज भी हो रहे हैं । सभी धर्मं में अलग अलग आधार पर देखे जा सकते हैं । रंग , नस्ल, वर्ण या वर्ग के आधार पर इस तरह के भेदभाव और भेदभाव के चलते अत्याचार और अपमान भी होते रहे हैं और आज भी हो रहे हैं । सवाल ये उठता है कि क्या धर्म परिवर्तन से रोहित की आकांक्षाओं या सपनों को पाया जा सकता है ? रोहित की मां व भाई के धर्म परिवर्तन को कूटनीतिक रूप से तो हिन्दू धर्म के विरुद्ध भुनाया जा सकता है मगर व्यापक परिप्रेक्ष्य में इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता । धर्म चाहे कोई भी हो रोहित के प्रश्नों का जवाब या हल वहां नहीं हो सकता। रोहित के सवाल इतने आसान नहीं कि किसी धर्म में उसका हल मिल सके । रोहित की समस्या सामाजिक है ।रोहित की लड़ाई सामाजिक न्याय की है जिसे कोई धर्म हल नहीं कर सकता । हमें यह समझना ही होगा । हमें यह बहुत अच्छी तरह समझना होगा कि रोहित धर्म से कहीं ज्यादा सामाजिक प्रताड़ना से जूझ रहा था । सामाजिक भेदभाव की चौड़ी होती दीवार से टकरा रहा रहा था । वो दीवार जिसे बाबा साहेब आम्बेडकर ने आजादी के बाद गिराना चाहा था । अपने पूरे प्रयासों से बाबा साहेब ने वो संविधान तैयार किया, और उस वक्त अपने समकालीन प्रगतिशील सोच के सहयोगियों की मदद से लागू भी करवाया, जिसे यदि ईमानदारी से लागू किया जाता तो आज रोहित जैसे अनेक नौजवानों को मानसिक संत्रास की पराकाष्ठा पर पहुंचकर आत्महत्या न करनी पड़ती । धर्मपरिवर्तन की राह तो रोहित भी अपना सकता था । मगर उसने ऐसा किया नहीं । वो लगातार परिस्थितियों से जूझता रहा , सामाजिक न्याय और समानता के उद्देश्य को लेकर वह जूझ रहा था, लगातार लड़ता रहा अपने चंद साथियों के साथ । ठीक है कि वह परिस्थितियों से थक गया मगर इसे उसकी हार नहीं मानना चाहिए । हारा तो वह आज जब उसकी मां और भाई को धर्मपरिवर्तन की राह पर धकेल दिया गया । ये रोहित के आदर्शों और उसकी लड़ाई को एक बड़ा झटका है । गहरा आघात है उस लड़ाई को जिसे उसके बाद कन्हैया और उसके साथियों सहितअसंख्य युवा अपने कंधों पर उठाकर आगे ले जा रहे हैं । एक अरसे के बाद सामाजिक न्याय और समानता की लड़ाई मुख्य धारा में आई है जिसमें युवा वर्ग सक्रिय रूप से शामिल हुआ है और जिसे राष्ट्रीय स्तर पर संज्ञान में लिया गया है । आज रोहित, कन्हैया और अन्य शोषित पीड़ित समाज देश की मुख्य बहस में आया है । रोहित की लड़ाई महज धर्म परिवर्तन तक सीमित करके नहीं देखी जानी चाहिए । यह उन तमाम धार्मिक शक्तियों का मिला जुला खतरनाक षड़यंत्र है जो रोहित के सपनों व सामाजिक न्याय व समानता की लड़ाई की धार को धार्मिक रंग देकर भोथरा कर देना चाहते हैं ।


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: