- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

ओल्गा टोकारजुक को 2018, पीटर हैंडके को 2019 के लिए साहित्य का नोबेल | अमेरिकी विपक्षी खेमे में गूंजा कश्मीर का मुद्दा, बर्नी सैंडर्स ने कहा-कश्मीर पर भारत की पाबंदी बर्दाश्त नहीं | न्यायपालिका पर मँडराता संकट उसकी अपनी पहचान का संकट है अरुण माहेश्वरी | कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने से दुखी क्यों हैं ये कश्मीरी पंडित | किसानों को साहूकारी कर्ज़ से मुक्त करने की मांग की किसान सभा ने | एके रायः लोकतंत्र के उजले पक्ष के प्रतिनिधि--अनिल सिन्हा | बैलाडीला अडानी खनन का मामला : मेरा कातिल ही मेरा मुंसिफ है | बेगूसराय ः चुनाव की खुमारी के बाद उपजे सवाल जीवेश चौबे | मोदी जी का बालाकोट सपना और कुछ सवाल---पी चिदंबरम | युद्धोन्माद की यह लहर उत्तर भारत में ही क्यों बहती है? |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
ओल्गा टोकारजुक को 2018, पीटर हैंडके को 2019 के लिए साहित्य का नोबेल
Share |

स्टॉकहोम/स्वीडन। नोबेल पुरस्कारों की सीरीज में गुरुवार को साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेताओं की घोषणा हो गई है। वर्ष 2018 के लिए पोलैंड की लेखिका Olga Tokarjuk को इस पुरस्कार से नवाजा जाएगा जबकि साल 2019 का पुरस्कार आस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके को दिया जाएगा। साल 2018 और 2019 के लिए साहित्य के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार की घोषणा गुरुवार को की गई। पोलिश लेखिका ओल्गा टोकारजुक को साल 2018 के लिए साहित्य नोबल पुरस्कार से नवाजा गया। पिछले साल विवादों के कारण इसे स्थगित किया गया था। लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता ओल्गा टोकारजुक को मौजूदा पीढ़ी के व्यावसायिक रूप से सफल लेखकों में से एक के रूप में जाना जाता है। 2018 में, उन्हें उपन्यास फ्लाइट्स (जेनिफर क्रॉफ्ट द्वारा अनुवादित) के लिए बुकर प्राइज से नवाजा गया था। यह पुरस्कार जीतने वाली वह पोलैंड की पहली लेखिका हैं। उन्होंने वारसॉ विश्वविद्यालय से मनोवैज्ञानिक के तौर पर प्रशिक्षण लिया है और छोटी गद्य रचनाओं के साथ कविताओं, कई उपन्यासों, साथ ही अन्य पुस्तकों का संग्रह प्रकाशित किया। फ्लाइट्स ने 2008 में, पोलैंड का शीर्ष साहित्यिक पुरस्कार नाइकी अवार्ड भी जीता। मीटू के चलते पिछले साल नहीं दिया गया था साहित्य का नोबेल पिछले साल नोबेल संस्थान की एक पूर्व सदस्या के पति फ्रांसीसी फोटोग्राफर ज्यां क्लाउड अर्नाल्ट पर यौन शोषण के आरोप लगे थे। इसके बाद स्वीडन की अकादमी को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। इसी वजह से उसने 2018 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार नहीं देने की घोषणा की थी। 1936 में भी नहीं दिए गए थे पुरस्कार हालांकि ये पहला मौका नहीं था। इससे पहले 1936 में भी पुरस्कार नहीं दिए गए थे। उस साल का पुरस्कार एक साल बाद इयुगेन ओनील को दिया गया था।


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment:

Top Stories

ओल्गा टोकारजुक को 2018, पीटर हैंडके को 2019 के लिए साहित्य का नोबेल
अमेरिकी विपक्षी खेमे में गूंजा कश्मीर का मुद्दा, बर्नी सैंडर्स ने कहा-कश्मीर पर भारत की पाबंदी बर्दाश्त नहीं
न्यायपालिका पर मँडराता संकट उसकी अपनी पहचान का संकट है अरुण माहेश्वरी
कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने से दुखी क्यों हैं ये कश्मीरी पंडित
किसानों को साहूकारी कर्ज़ से मुक्त करने की मांग की किसान सभा ने