- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

ओल्गा टोकारजुक को 2018, पीटर हैंडके को 2019 के लिए साहित्य का नोबेल | अमेरिकी विपक्षी खेमे में गूंजा कश्मीर का मुद्दा, बर्नी सैंडर्स ने कहा-कश्मीर पर भारत की पाबंदी बर्दाश्त नहीं | न्यायपालिका पर मँडराता संकट उसकी अपनी पहचान का संकट है अरुण माहेश्वरी | कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने से दुखी क्यों हैं ये कश्मीरी पंडित | किसानों को साहूकारी कर्ज़ से मुक्त करने की मांग की किसान सभा ने | एके रायः लोकतंत्र के उजले पक्ष के प्रतिनिधि--अनिल सिन्हा | बैलाडीला अडानी खनन का मामला : मेरा कातिल ही मेरा मुंसिफ है | बेगूसराय ः चुनाव की खुमारी के बाद उपजे सवाल जीवेश चौबे | मोदी जी का बालाकोट सपना और कुछ सवाल---पी चिदंबरम | युद्धोन्माद की यह लहर उत्तर भारत में ही क्यों बहती है? |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
अमेरिकी विपक्षी खेमे में गूंजा कश्मीर का मुद्दा, बर्नी सैंडर्स ने कहा-कश्मीर पर भारत की पाबंदी बर्दाश्त नहीं
Share |

अंतरराष्ट्रीय जगत में सत्ता पक्ष के साथ-साथ अब विपक्षी नेता भी कश्मीर के मसले पर बोलने लगे हैं। अमेरिका के लोकप्रिय विपक्षी नेता और डेमोक्रैटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी बर्नी सैंडर्स ने कश्मीर के मसले पर अमेरिकी सरकार से हस्तक्षेप करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में भारत की पाबंदी स्वीकार्य नहीं है। अमेरिका में आयोजित एक सभा में उन्होंने कहा कि मैं कश्मीर की स्थिति को लेकर भी चिंतित हूं जहां भारत सरकार ने कश्मीर की स्वायत्तता को खत्म कर दिया है। और असहमति का गला घोंट दिया है। साथ ही पूरी संचार व्यवस्था को ठप कर दिया गया है। सुरक्षा के नाम पर किए गए हमले का नतीजा यह है कि कश्मीरी मेडिकल कैंप तक नहीं जा सकते हैं। यहां तक कि भारत के बहुत सारे डाक्टरों ने भी कश्मीर में लाइफ सेविंग ड्रग्स के मरीजों तक न पहुंच पाने के खतरे को लेकर चिंता जाहिर की है। भारतीय कार्रवाई किसी भी रूप में स्वीकार्य नहीं है। संचार पर पाबंदी को तत्काल हटाया जाना चाहिए। और अमेरिकी सरकार को पूरे साहस के साथ अंतरराष्ट्रीय मानवीय जिंदगियों और यूएन समर्थित शांतिपूर्ण प्रस्ताव के समर्थन में बोलना चाहिए।


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: