- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

दर्शक की फिक्र किसे है--मुकेश कुमार | सोमनाथ का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य - रोमीला थापर | संस्कारों वाली पिएटा को वेनिस का सुनहरा शेर | केबीसी 6- रैना होंगे पहले करो़ड़पति | इंडिया गॉट टैलेंट में नहीं दिखेंगी सोनाली बेंद्रे | इंडिया गॉट टैलेंट में नहीं दिखेंगी सोनाली बेंद्रे | इंडिया गॉट टैलेंट में नहीं दिखेंगी सोनाली बेंद्रे | इंडिया गॉट टैलेंट में नहीं दिखेंगी सोनाली बेंद्रे | इंडिया गॉट टैलेंट में नहीं दिखेंगी सोनाली बेंद्रे | सेहत में जहर घोलता तम्बाकू |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
संस्कारों वाली पिएटा को वेनिस का सुनहरा शेर
Share |

दक्षिण कोरियाई निर्देशक किम की डुक की फिल्म 'पिएटा' को वेनिस के फिल्मी मेले में सबसे बड़ा इनाम मिला जबकि पॉल थॉमस एंडरसन की साइंटोलॉजी से प्रेरित फिल्म द मास्टर दो बड़े इनाम झटकने में कामयाब रही. शनिवार को वेनिस फिल्मी मेले की आखिरी रात मौजूद दर्शकों को किम ने स्टेज पर डांस कर खूब झूमाया. वेनिस का सुनहरा शेर पाने की खुशी उनके कदम संभाल न सके और खूब थिरके. कोरियाई लोकगीत 'अरिरंग' पर झूमते हुए किम ने दर्शकों और ज्यूरी को शुक्रिया कहा. किम की फिल्म एक क्रूर ठग की कहानी है जो तन्हा है और शिकार की तलाश में सोल की गलियों में घूमता रहता है. एक रहस्यमय औरत उसकी मां होने का दावा करते हुए उसकी जिंदगी में आती है और फिर नायक की मुक्ति का संघर्ष एक ऐसे जंजाल में उलझ जाता है जहां भावनाओं का ज्वार भी है. किम का कहना है कि उनकी फिल्म का मकसद "चरम पूंजीवाद" की निंदा करना है और उनकी फिल्म का तीसरा प्रमुख किरदार पैसा ही है फिल्म में ठग बने ली ने इस भूमिका को लेकर अपनी आशंकाओं के बारे में कहा, "मैं थोड़ा डरा हुआ साथा क्योंकि वह अंधेरों के साथ, मुश्किलों के साथ काम करते हैं लेकिन सब कुछ अच्छा रहा. मुझे खूबसूरत दृश्य करने के लिए नहीं बल्कि सच्चे दृश्य करने के लिए कहा गया." 51 साल के किम के लिए वेनिस कोई नई जगह नहीं है. 2004 में "बिन जिप" के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का अवॉर्ड मिल चुका है. वेनिस में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार संयुक्त रूप से जोकिन फीनिक्स और फिलिप सीमर हॉफमैन को द मास्टर के लिए दिया गया. द मास्टर के निर्देशक एंडरसन ने वेनिस में चांदी का शेर जीता है. फीनिक्स ने दूसरे विश्व युद्ध के योद्धा रहे शराबी पूर्व सैनिक की भूमिका निभाई है जो करिश्माई हॉफमैन का शिष्य बन जाता है. हॉफमैन ने एक उभरते आंदोलन 'द कॉज' का नेता है. कहानी 1950 के दशक में बड़ी खूबसूरती से फिल्माई गई है. फिनिक्स और एंडरसन दोनों वेनिस में मौजूद नहीं थे इसलिए उनके अवॉर्ड हॉफमैन ने लिए. हॉफमैन ने कहा, "जोकिन फीनिक्स इस फिल्म की जान हैं." एंडरसने के बारे में हॉफमैन ने कहा, "वह दुनिया के महान फिल्मकारों में से हैं और मेरे ख्याल में वह सर्वश्रेष्ठ हैं." सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार हदस यारोन को मिला जिन्होंने रामा बुर्श्टाइन की फिल्म 'लीमेल ए हा'खलाल' में औरत बनती एक युवा जोशीली लड़की की भूमिका निभाई है. कहानी तेल अवीव के कट्टरपंथी हासिद समुदाय के परिवेश में बुनी गई है. वेनिस में ऑस्ट्रियाई निर्देशक उलरिष साइड की 'पाराडीजे ग्लाउबे' को विशेष पुरस्कार दिया गया. यह एक विवादित फिल्म है जिसमें एक परेशान महिला की कैथोलिक आस्था को कामुक सनक में बदलते दिखाया गया है. फ्रांसीसी निर्देशक ओलिवियर असायास ने अपनी फिल्म 'आप्रे माय' के लिए बेहतरीन पटकथा का पुरस्कार जीता. बेहतरीन उभरते सितारे का पुरस्का फाब्रिजियो फाल्को को इटली की दो फिल्मों में उनके शानदार अभिनय के लिए मिला दुनिया के सबसे पुराने फिल्मी मेले में रॉबर्ट रेडफॉर्ड जैसे हॉलीवुड के दिग्गज थे, तो नए सितारे सेलेना गोमेज और वैनेसा हजेन्स भी. यहां आई फिल्मों में अरब जगत की उठापटक भी थी और वहां के उभरते फिल्मकार भी, इसके साथ ही अमेरिका और यूरोप के आर्थिक संकट की वजह से समाज और संस्कार में आई गिरावट से जुड़े मुद्दे भी खूब उठे.


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: