- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

गांधी जयंती पर - प्रभाकर चौबे स्मृति व्याख्यान व सम्वाद में असद ज़ैदी व गौहर रज़ा के व्याख्यान | दंतेवाड़ा की जीत भूपेश बघेल की नीतियों पर जनता की मुहर है --जीवेश चौबे | दंतेवाड़ा की जीत भूपेश बघेल की नीतियों पर जनता की मुहर है --जीवेश चौबे | छात्र राजनीति से से परहेज क्यों------ जीवेश | भारतीय लोकतंत्र: कमजो़र विपक्ष के चलते पनपता अधिनायकवाद ः जीवेश चौबे | भारतीय लोकतंत्र: कमजो़र विपक्ष के चलते पनपता अधिनायकवाद ः जीवेश चौबे | निकाय चुनावों के मद्दे नज़र मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आरक्षण कार्ड----- जीवेश चौबे | कश्मीरियत न खो जाए कहीं इस जश्न में ---जीवेश चौबे- | पुनर्गठन के दौर में कॉंग्रेस---- जीवेश चौबे | धर्म संसद की ओर अग्रसर होती लोकसभा-- जीवेश चौबे |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
गांधी जयंती पर - प्रभाकर चौबे स्मृति व्याख्यान व सम्वाद में असद ज़ैदी व गौहर रज़ा के व्याख्यान
Share |

20 वी सदी में भारत ने विश्व को दो महान हस्तियां दीं , एक गांधी और एक नेहरू शायर, विचारक एवं वैज्ञानिक गौहर रजा ने उक्त बात प्रभाकर चौबे फाउंडेशन व पत्रकारिता विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर आयोजित प्रभाकर चौबे स्मृति व्याख्यान एवम सम्वाद में कहीं । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वरिष्ठ सम्पादक ललित सुरजन थे । कार्यक्रम का संचालन ने करते हुए प्रभाकर चौबे फाउंडेशन के अध्यक्ष श्री जीवेश चौबे ने फाउंडेशन के उद्देश्यों से अवगत कराया। गांधी, स्वतंत्रता संग्राम और आजाद भारत की कल्पना विषय पर अपने विचारोतजक उदबोधन में गौहर रज़ा ने कहा कि आज हम इतिहास पर नजर डालें तो पाएंगे कि अशोक, बिस्मार्क, सिकंदर, नेपोलियन , अकबर या हिटलर इन सभी की जो भी भूमिका रही समाज ने उन्हें उसी रूप में स्वीकार किया न कि किसी बदलाव के साथ. गांधी जी ने बराबरी की बात की समाज के सभी वर्गों को समान अधिकार देने की बात की लेकिन आज के समाज में हम बराबरी की बात करते तो हैं लेकिन बराबरी को स्वीकार नहीं कर पाते, उन्होंने कहा गांधी जी की बुनियादी दृष्टि में राजनीति व समाज था न कि आध्यात्म, उन पर हिंदू, इस्लाम, जैन, बौद्ध आदि सभी धर्मों के दर्शन का प्रभाव था. गरीब हो या अमीर सबके लिए उनके वचन एक जैसे ही होते थे.तमाम लोग उन्हें समझौता परस्त कह सकते हैं लेकिन मैं इसे बीच का रास्ता निकालने वाले रणनीतिकार के रूप में देखता हूं, ताकि किसी प्रकार के वैमनस्य को टाला जा सके.वैज्ञानिक गौहर रजा ने कहा कि हम बड़ी- बड़ी बातें बोलते हैं लेकिन दलितों और निचले तबके के लोगों और महिलाओं के प्रति हमारा क्या नजरिया है ये सोचने का विषय है. हमारा स्वतंत्रता आंदोलन इन सभी ढांचों को तोडने का प्रयास था, उन्होंने कहा कि आज गांधी को बचाने की जिम्मेदारी हमारी अगली नस्ल यानि आप युवाओं की है. गांधी के ख्वाबों के हिंदुस्तान में सब बराबर हैं जिन्हें उनके ख्वाबों का हिंदुस्तान पसंद नहीं वही गांधी के विचारों पर हमला कर उन्हें नए रूप में पेश करना चाहते हैं. इस अवसर पर वरिष्ठ कवि असद जैदी ने गांधी जी की नई तालीम व भाषा पर उनके विचार विषय पर कहा कि गांधी मजबूरी नहीं मजबूरों और मजदूरों के नायक थे,समाज के सबसे निचले तबके के मजबूर, मजलूम लोग गांधी की चिंताओं में प्रमुख थे. उन्होंने कहा कि गांधी जी ने दलितों वंचितों किसानों की लड़ाई का बीड़ा उठाया, वे समाज के उच्च वर्गों के हितों के लिए नहीं बल्कि अंतिम व्यक्ति के लिए लड़े,उन्हें किसी ने राष्ट्रपिता की पदवी प्रदान नहीं की बल्कि उन्होंने इसे कमाया,ये किसी सरकार की देन नहीं थी बल्कि राष्ट्रपिता के तौर पर समाज के हर वर्ग में उनकी स्वीकार्यता रही. बापू को राष्ट्रपिता की पदवी दी नहीं गई उन्होंने इसे कमाया । इस मौके पर मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार श्री ललित सुरजन ने भी गांधी जी के आदर्शों पर व्याख्यान दिया व युवाओं से गांधी जी के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की, कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति जी आर चुरेंद्र ने की तथा स्वागत भाषण कुलसचिव डॉ. आनंद शंकर बहादुर ने दिया।अंत मे प्रभाकर चौबे फाउंडेशन के अध्यक्ष जीवेश चौबे ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर आमन्त्रित अतिथियों का शाल श्रीफल व स्मृति चिन्ह से सम्मान भी किया गया । संयोजन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. नरेंद्र त्रिपाठी थे. कार्यक्रम के उपरांत प्रसिद्ध गौहर रजा, असद जैदी व कवि महेश वर्मा का काव्यपाठ का आयोजन भी किया गया.


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: