- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

सोमनाथ का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य - रोमीला थापर | आतंक पर यूएन में अहम बैठक | चार करोड़ से अधिक लोग विस्थापित | चार करोड़ से अधिक लोग विस्थापित | इंटरनेट क्रांति से कोसों दूर है भारत | 'जीपीएस कोशिकाओं' से रास्ता तलाशते हैं कबूतर | श्ौक्षणिक न्यायाधिकरण विधेयक अगले सत्र के लिए टला |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
इंटरनेट क्रांति से कोसों दूर है भारत
Share |

12 करोड़ लोगों के साथ भारत इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले देशों की सूची में दुनिया में तीसरे नंबर पर है. इस से ऊपर 24.5 करोड़ यूजर्स वाला अमेरिका है और पहले स्थान पर 51 करोड़ यूजर्स वाला चीन है. भारत का तीसरे नंबर पर होना भले ही यह दर्शाता हो कि भारत सूचना क्रांति में अन्य देशों से बहुत आगे है, लेकिन करीब 120 करोड़ आबादी वाले देश में केवल बारह करोड़ लोगों का इंटरनेट इस्तेमाल करना समुद्र में बूंद के बराबर ही लगता है. भारत सरकार के एक नए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि ग्रामीण भारत में केवल 0.4 प्रतिशत परिवार ही इंटरनेट की सुविधा का लाभ उठा पा रहे हैं. शहरों में भी यह संख्या बहुत अधिक तो नहीं है लेकिन गांवों के मुकाबले फिर भी ज्यादा है. शहरी इलाकों में करीब छह प्रतिशत परिवारों के पास इंटरनेट की सुविधा है. यह सब बताया गया है नेशनल सैम्पल सर्वे ऑरगेनाइजेशन (एनएसएसओ) की 2009-10 की रिपोर्ट में.रिपोर्ट के मुताबिक ग्रामीण इलाकों में एक हजार परिवारों में केवल 3.5 तक ही इंटरनेट पहुंच पाया है, जबकि शहरों में यह संख्या 59.5 की रही. इंटरनेट सुविधा सबसे बेहतर महाराष्ट्र में है. वहां हर हजार परिवारों में 104 के पास यह सुविधा उपलब्ध थी. दूसरे नंबर पर केरल और हिमाचल प्रदेश रहे, जहां यह संख्या 95 रही. इसके बाद 81.5 परिवारों के साथ हरियाणा तीसरे नंबर पर रहा. अगर केवल ग्रामीण इलाकों की बात की जाए तो सबसे बेहतरीन नतीजे गोवा में देखने को मिले, जहां 1000 में से 50 परिवारों तक इंटरनेट पहुंच सका. इसके बाद 34 परिवारों के साथ केरल का स्थान रहा. केरल में ग्रामीण इलाकों में तीन प्रतिशत परिवारों के पास इंटरनेट है जबकि हिमाचल प्रदेश में दो प्रतिशत के पास. इसी तरह शहरों में महाराष्ट्र में दस प्रतिशत परिवारों के पास इंटरनेट की सुविधा है. यह शहरी इलाकों में सबसे बड़ी संख्या है. भारत को दुनिया भर में आईटी के लिए जाना जाता है. कंप्यूटर से जुड़ी कई नई तकनीकें भारत के ही बड़े संस्थान या विदेश में रह रहे भारतीयों के योगदान से विकसित हो रही हैं. ऐसे में देश में एक छोटे से ही वर्ग के पास इस सुविधा का होना हैरानी भरा है.


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: