- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

रायपुर - स्मृतियों के झरोखे से -1 - प्रभाकर चौबे ..कुछ नहीं मालूम दिल्ली-- पी चितंबरम.बुद्धिजीवियों ने किया हांसदा की किताब पर प्रतिबंध का विरोध..नफ़रत के ख़िलाफ़ छत्तीसगढ़ की आवाज : *बहुरंगी भारत* द्वारा मौन प्रदर्शन का आयोजन..जब देश का प्रधानमंत्री ही गाली-गलौज करने वालों को फॉलो करेगा तो उन पर लगाम कौन लगाएगा..जहाँ लक्ष्मी कैद है --- राजेंद्र यादव मुक्तिबोध ः पत्रकारिता के प्रगतिशील प्रतिमान -जीवेश प्रभाकर---जब पहली बार खेला गया 'जिस लाहौर... | नोटबंदी पर देश कहां जा रहा, मोदी भी नहीं जानते : अमेरिकी अर्थशास्‍त्री सत्ता के खेल में वतन की आबरू पर हमले- आलोक मेहता शहीद लेखकों के गृह नगरों के भ्रमण पर हिंदी लेखक अमेरिकी वित्तीय पूंजीपतियों की सलाह पर मोदी जी ने नोटबंदी का अपराध किया --अरुण माहेश्वरी भारतीय तबला वादक संदीप दास ने जीता ग्रैमी अवॉर्ड क्‍लॉड ईथरली--- गजानन माधव मुक्तिबोध Trump, Modi and a Shaft of Worrying Similarities मधुबनी पेंटिंग की जादूगर :बौआ देवी | चुनाव घोषणापत्र या प्रलोभन पत्र- प्रभाकर चौबे | विमर्श सिद्धांतों की व्यर्थता--- हरिशंकर परसाई विश्वनाथ प्रताप सिंह के साथ निकले लोगों और पहले से बाहर लोगों ने जनमोर्चा बनाया था। ये लोग आदर्शवाद के मूड के थे। विश्वनाथ प्रताप को आदर्शवाद का नशा आ गया था। मोर्चे के नेता की हैसियत से उन्होंने घोषणा की ------------- | तमिल लेखक पेरूमल मुरुगन पुनरुज्जीवित होंगे--- तमिल लेखक पेरूमल मुरुगन ने १४ जनवरी को फेसबुक पर लिखा, लेखक पेरूमल मुरुगन मर गया.वह भगवान नहीं है, लिहाजा वह खुद को पुनरुज्जीवित नहीं कर सकता. ------------------ | अध्यादेश सरकार---प्रभाकर चौबे---- कार्पोरेट पूरा परिवेश अपने हित में चाहता है। वह दिखाता है कि वह लोकतंत्र की मजबूती का पक्षधर है---------------- | ग्वालियर के दिग्गज लक्ष्मण पंडित हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में ग्वालियर घराना अन्य सभी घरानों की गंगोत्री माना जाता है. इस घराने की गायनशैली की शुरुआत 19वीं शताब्दी में हद्दू खां, हस्सू खां और नत्थू खां नाम के तीन भाइयों ने की थी.इनके शिष्य शंकर पंडित और उनके पुत्र कृष्णराव शंकर पंडित अपने समय के दिग्गज गायकों में थे. कृष्णराव शंकर पंडित के पुत्र लक्ष्मण कृष्णराव पंडित ने भी अपने पिता और दादा की तरह गायन के क्षेत्र में खूब नाम कमाया.......... | लंदन में नाटकघरों का सुनहरा युग देश के लीग फुटबॉल से तुलना की जाए तो लंदन के थियेटर हॉल में नाटक देखने ज्यादा लोग आते हैं.सोसाइटी ऑफ लंदन थियेटर एंड नेशनल थियेटर की एक रिपोर्ट के अनुसार इस समय ब्रिटेन में थियेटर का स्वर्णयुग चल रहा है.......... | अपनी भाषा से उदासीनता नहीं: ओरसिनी More Sharing ServicesShare | Share on facebook Share on myspace Share on google Share on twitter फ्रांचेस्का ओरसिनी इटली की हैं और हिन्दी भाषा और समाज की गंभीर अध्येता हैं. उनका कहना है कि भूमंडलीकरण के बावजूद अपनी भाषा से उदासीनता नहीं बरतनी चाहिए.फ्रांचेस्का ओरसिनी अपनी मातृभाषा इटैलियन के अतिरिक्त हिन्दी, उर्दू, फारसी, अंग्रेजी और जर्मन बहुत अच्छी तरह जानती हैं. | मध्यपूर्व पर बदलता भारतीय रुख भारत ने रूस, ब्राजील, दक्षिणी अफ्रीका और चीन के साथ मिल कर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में पेश फलिस्तीनी प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया, जबकि यूरोपीय देशों ने वोट में हिस्सा नहीं लिया और अमेरिका ने उसके खिलाफ वोट डाला......... |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
जयपुर साहित्य उत्सव (जेएलएफ) और समानांतर साहित्य उत्सव (पीएलएफ) --- अरुण माहेश्वरी
Share |

कोई भी चीज पहली नज़र में जैसी दिखाई देती है, उसे वैसे ही ग्रहण करना हो, तो अलग से कहने के लिये कुछ नहीं होता है । लेकिन थोड़ा सा विषय पर अपने को केंद्रित करके विचार करने से ही वह किसी स्थिर तस्वीर के बजाय अजीब प्रकार से गतिशील दिखाई देने लगेगी । उसके अंदर के परिघटनामूलक सच का बिल्कुल भिन्न चेहरा सामने आने लगेगा । उसकी अपनी वैश्विकता का एक परिप्रेक्ष्य निर्मित होगा, उसका अपना संसार बहुत साफ दिखाई देने लगेगा । दरअसल कोई भी आयोजन जब गतानुगतिक, पारंपरिक और लगभग कर्मकाण्डी रूप ले लेता है, उसके पालन का रोमांच जितना भी सुखदायी या गौरवशाली क्यों न हो, उसका एक स्थायी प्रकार का ढाँचा ही उसमें नये रचनात्मक सोच के प्रवेश में बाधक बनने लगता है, वह अपनी जीवंतता को गँवा देता है । हमने लेखक संगठन के सम्मेलनों में काफी शिरकत की है , लेकिन जेएलएफ में कभी नहीं गये, इसीलिये वहाँ की गतिविधियों के बारे में जिसे सटीक कहा जा सके, वैसी हमारी कोई अवधारणा भी नहीं है । लेकिन उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर यह साफ है कि ऐसा उत्सव अपने समय की ज्वलंत सामाजिक- सांस्कृतिक समस्याओं पर कभी केंद्रित हो ही नहीं सकता है, क्योंकि इसके आयोजन का वैसा कोई लक्ष्य ही नहीं है, कह सकते हैं कि उसके अस्तित्व के पीछे ऐसी कोई कामना ही नहीं है । इसीलिये इससे किसी कठिन से कठिन काल में भी एक साहित्यिक-सांस्कृतिक आलोड़न या आंदोलन की उम्मीद करना, खुद को उस पर लादने की एक बलात् कोशिश होगी । वह खुद ऐसा कभी नहीं चाहता। वह मूलत: बड़ी निजी पूँजी के सहयोग से साहित्य के पर्यटन का एक व्यापार है । कोई भी इसका लुत्फ़ उठा सकता है, मौक़ा मिले तो इसमें अपने करतब भी दिखा सकता है । जेएलएफ के इस पहलू को दरकिनार करके आप उस पर किसी सही चर्चा के अधिकारी भी नहीं हो सकते हैं । यह उसके अस्तित्व की प्राथमिक शर्त ही नहीं, समग्र रूप में यह वही है । इसके बाद इसके अंदर सक्रिय नाना तत्वों की गतिविधियों की अपनी परिघटना का सवाल आता है । जेएलएफ की तुलना में, पीएलएफ बिल्कुल अलग था । जेएलएफ की उत्सवधर्मिता के बाह्य रूप को इसमें अपनाया गया , लेकिन किसी पर्यटन व्यापार के लिये नहीं, विभिन्न जनोन्मुखी लेखक संगठनों के सम्मेलनों के बंद ढाँचे को तोड़ कर उनकी आत्मा को एक नया रूप देने के लिये । यह आंदोलनमूलक लेखक संगठनों की वैश्विकता के परिप्रेक्ष्य में आंदोलन का एक अलग मुक्त संसार तैयार करने की कामना से प्रेरित आयोजन था । यह पूरी तरह से साहित्य और समाज के ज्वलंत प्रश्नों पर केंद्रित एक साहित्य और विचारों का उत्सव था । प्रतिवादी साहित्य की बहुलता का उत्सव। मुद्दों पर आधारित साहित्यकारों-कलाकारों का एक प्रकार का सार्वजनिक आयोजन । यह सच है कि आज जब समाज में प्रगतिशील विचारों और संस्कृति के सामने अस्तित्व मात्र का एक बड़ा संकट है, उस समय किसी लेखक संगठन के झंडे तले चंद लेखकों की निजी पहल पर ऐसा एक उत्सव आयोजित करना दुस्साहस का काम ही कहलायेगा । इस आयोजन को किसी भी कारणवश ग़लत साबित करने या विवादास्पद बनाने की तमाम कोशिशें भी इसी बात की पुष्टि करती है कि प्रगतिशील और जनवादी चिंतन के सामने अस्तित्व का एक बड़ा भारी संकट है । इसमें जो ऊपर से दिखाई देता है, वह भले ही किसी को नापसंद या नागवार लगे, लेकिन जब भी कोई इसकी गतिशीलता के अपने तर्क को पकड़ेगा, उसे इसकी कुरूपता उतनी ही मानीखेज और आकर्षक लगने लगेगी, जैसा एक नज़र में कुरूप लगने वाली अनेक महान कलाकृतियों के मामले में हम हमेशा देखते आए हैं । जयपुर में पीएलएफ के कार्यक्रम में शामिल होकर हमें इसी एक बहुत ही सुंदर पहलकदमी में शामिल होने की अनुभूति हुई । हमें इसकी व्यवस्था की पारिस्थितिकी को लेकर यह चिंता जरूर हुई कि आख़िर इसका साल-दर-साल अपनी सार्थक भूमिका के साथ टिके रहना कैसे संभव होगा ! इसके ढाँचे में इसकी जीवंतता की रक्षा के लिये जरूरी खुलापन है, इसमें साहित्य और कला की सामाजिक भूमिका की वैश्विकता भी है, लेकिन इसके अपने अर्थशास्त्र का स्वरूप क्या होगा ? इसमें कोई शक नहीं है कि पूरे हिंदी भाषी क्षेत्र के व्यापक सांस्कृतिक आंदोलन के एक केंद्रीय आयोजन के रूप में इसके विकास में ही इसका भविष्य है । लेकिन अगर वह आंदोलन ही देश में कहीं न दिखाई दे, तो किसकी शक्ति के बूते यह समानांतर साहित्य उत्सव अपने अस्तित्व की रक्षा कर पायेगा ? इसके अतिरिक्त, जो लोग इसके आयोजन में किसी प्रकार की दूसरी कोई कुमंशा को देख रहे हैं, या दिखा रहे है, हम उनसे सहमत नहीं होना चाहते । हम सिर्फ ऐसे आयोजन की आगे और सफलता की ही कामना कर सकते हैं । - अरुण माहेश्वरी


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: