- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

'महागठबंधन' लोगों की भावना है न कि राजनीति, बीजेपी के खिलाफ पूरा देश एकजुट:राहुल गांधी | कांग्रेस और राहुल को महात्मा गांधी की सख्त जरूरत है | कांग्रेस और राहुल को महात्मा गांधी की सख्त जरूरत है | तो क्या कुछ ही सालों में खत्म हो जाएंगी सुंदरबन की मछलियां? | परसाई जयंती पर प्रभाकर चौबे की व्यंग्य रचनाओं पर चर्चा | परसाई जयंती पर प्रभाकर चौबे की व्यंग्य रचनाओं पर चर्चा |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
'महागठबंधन' लोगों की भावना है न कि राजनीति, बीजेपी के खिलाफ पूरा देश एकजुट:राहुल गांधी
Share |

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को महाराष्ट्र के चंद्रपुर के नांदेड गांव में किसानों के साथ चौपाल पर चर्चा करेंगे। वे यहां एचएमटी धान आविष्कारक और दिवंगत कृषि वैज्ञानिक दादाजी खोब्रागडे के परिजनों से मुलाकात करेंगे और उन्हें श्रद्धांजलि देंगे। बता दें कि दादाजी खोब्रागढ़े को धान की प्रजाति विकसित करने के लिए अवॉर्ड भी मिला था। चंद्रपुर जाने से पहले राहुल ने मुंबई में प्रेस कांफ्रेंस कर एक बार भाजपा, आरएसएस को आड़े हाथों लिया। साथ ही महागठबंधन को देश के लिए जरूरी बताया। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक राहुल गांधी ने कहा कि 'महागठबंधन' लोगों की भावना है न केवल राजनीति। उन्होंने कहा कि आरएसएस और भाजपा के खिलाफ पूरा देश एकजुट है।पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर भी कांग्रेस अध्यक्ष ने केन्द्र सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल की कीमत आम आदमी के लिए बोझ बन गई है, हमने ईंधन को जीएसटी के तहत लाने के लिए कहा था, लेकिन सरकार को कोई दिलचस्पी नहीं है। बता दे कि चंद्रपुर से पहले राहुल विशेष विमान के जरिए नागपुर एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे। यहां शहर कांग्रेस कमेटी की ओर उनका भव्य स्वागत किया जाएगा। इस दौरान हजारों कार्यकर्ता तिरंगा दुपट्टा देकर उनका स्वागत करेंगे। वे एयरपोर्ट से चंद्रपुर रवाना होंगे। राहुल नांदेड़ गांव के रहने वाले दादाजी खोब्रागडे के परिजनों से मुलाकात करने जा रहे हैं। खोब्रागडे ने एचएमटी धान की प्रजाति को विकसित किया था। उन्होंने अपने अविष्कारों को मुफ्त में किसानों को बांटा और उसका कभी पेटेंट नहीं किया। खोबरागड़े पैरालिसिस से जूझ रहे थे और महाराष्ट्र के शोधग्राम के अस्पताल में इसी महीने उनका देहांत हो गया।


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment:

Top Stories

'महागठबंधन' लोगों की भावना है न कि राजनीति, बीजेपी के खिलाफ पूरा देश एकजुट:राहुल गांधी
कांग्रेस और राहुल को महात्मा गांधी की सख्त जरूरत है
कांग्रेस और राहुल को महात्मा गांधी की सख्त जरूरत है
तो क्या कुछ ही सालों में खत्म हो जाएंगी सुंदरबन की मछलियां?
परसाई जयंती पर प्रभाकर चौबे की व्यंग्य रचनाओं पर चर्चा