- राजनीती
- व्यापार
- महिला जगत
- बाल जगत
- छत्तीसगढ़ी फिल्म
- लोक कल
- हेल्पलाइन
- स्वास्थ
- सौंदर्य
- व्यंजन
- ज्योतिष
- यात्रा

ब्रेकिंग न्यूज़ :

कथाकार प्रियंवद को राष्ट्रीय वनमाली कथा सम्मान, कथाकार रणेन्द्र और भगवानदास मोरवाल को वनमाली कथा सम्मान | संस्कृति --- हरिशंकर परसाई | संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर पर बंद दरवाजे में चर्चा | अनुच्छेद 370 सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं दाखिल | प्रज्ञा ठाकुर चुनाव में: भविष्य का संकेत -राम पुनियानी | न्यूज़ीलैंड में खून की होली सभ्यताओं के टकराव का सिद्धांत बना मानवता का शिकारी -राम पुनियानी | सफाईकर्मियों के पांव पखारने की नौटंकी ---राम पुनियानी | जाति और योनि के कठघरे में जकडा भारतीय समाज | vim2 | हिन्दी प्रदेश पर बहुत कुछ निर्भर है --रवि भूषण |

होम
प्रमुख खबरे
छत्तीसगढ़
संपादकीय
लेख  
विमर्श  
कहानी  
कविता  
रंगमंच  
मनोरंजन  
खेल  
युवा
समाज
विज्ञान
कृषि 
पर्यावरण
शिक्षा
टेकनोलाजी 
कथाकार प्रियंवद को राष्ट्रीय वनमाली कथा सम्मान, कथाकार रणेन्द्र और भगवानदास मोरवाल को वनमाली कथा सम्मान
Share |

वनमाली सृजन पीठ द्वारा प्रत्येक दो वर्षों में दिये जाने वाले प्रति‍ष्ठित वनमाली कथा सम्मान, वनमाली कथा आलोचना सम्मान और वनमाली साहित्यिक पत्रिका सम्मान की घोषणा कर दी गयी है. इस वर्ष चर्चित कथाकार प्रियंवद को राष्ट्रीय वनमाली कथा सम्मान, कथाकार रणेन्द्र और भगवानदास मोरवाल को वनमाली कथा सम्मान, युवा कथाकार मनोज पांडेय, तरुण भटनागर और गौरव सोलंकी को वनमाली युवा कथा सम्मान दिये जाने की घोषणा हुई है. पीठ ने वरिष्ठ आलोचक विनोद शाही को वनमाली कथा आलोचना सम्मान और युवा आलोचक राहुल सिंह को वनमाली कथा युवा आलोचना सम्मान के लिए चुना है, वनमाली साहित्यिक पत्रिका सम्मान `समकालीन भारतीय साहित्य' को दिये जाने की घोषणा की गयी है. जबकि इस वर्ष वनमाली विशिष्ट कथा सम्मान से किरण सिंह और उपासना चौबे को सम्मानित किया जा रहा है. झारखंड के लिए इस वर्ष का सम्मान समारोह इसलिए खास है क्योंकि यहां के दो रचनाकारों कथाकार रणेन्द्र और युवा आलोचक राहुल सिंह का नाम पुरस्कार पाने वालों की सूची में शामिल है.प्रसिद्ध कथाकार रणेन्द्र ने कहा कि पुरस्कारों से जहां आत्मविश्वास बढ़ता है, वहीं आपकी जिम्मेदारी भी बढ़ती है. इसमें कोई दो राय नहीं कि पुरस्कारों से सृजशीलता को संबल मिलता है और उसमें निरंतरता आती है. लेकिन एक संतोष भी है कि झारखंड जैसे छोटे राज्य से किया गया लेखन लोगों तक पहुंच रहा है और लोग उसे पसंद कर रहे हैं. बेशक जिम्मेदारी बढ़ी है और यथार्थ लेखन के लिए प्रोत्साहन भी मिला है. खुशी की बात यह है कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हाथों यह सम्मान मिलेगा. कथाकार रणेन्द्र देश के शीर्षस्थ साहित्यकारों में शामिल हैं और उनकी रचनाओं का केंद्र आदिवासी विमर्श और यथार्थवादी लेखन रहा है.


Send Your Comment
Your Article:
Your Name:
Your Email:
Your Comment:
Send Comment: