विविध

जामिया, मुजीब भाई और मैं (5) – असग़र वजाहत

July 5, 2020

असग़र वजाहत (जन्म – 5 जुलाई 1946) – हिन्दी साहित्य  में  महत्त्वपूर्ण कहानीकार एवं   नाटककार के रूप में सम्मानित नाम हैं। इन्होंने कहानी, नाटक, उपन्यास, यात्रा-वृत्तांत, फिल्म तथा चित्रकला आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण रचनात्मक योगदान किया है। इन्होने दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में लगभग 40 वर्षों तक अध्यापन किया एवं हिन्दी विभाग के अध्यक्ष रहे । हम उनके जामिया […]

Read More

जामिया, मुजीब भाई और मैं(4 )- असग़र वजाहत

July 4, 2020

असग़र वजाहत (जन्म – 5 जुलाई 1946) – हिन्दी साहित्य  में  महत्त्वपूर्ण कहानीकार एवं   नाटककार के रूप में सम्मानित नाम हैं। इन्होंने कहानी, नाटक, उपन्यास, यात्रा-वृत्तांत, फिल्म तथा चित्रकला आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण रचनात्मक योगदान किया है। इन्होने दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में लगभग 40 वर्षों तक अध्यापन किया एवं हिन्दी विभाग के अध्यक्ष रहे । हम उनके जामिया […]

Read More

जामिया, मुजीब भाई और मैं (3) – असगर वजाहत

July 3, 2020

असग़र वजाहत (जन्म – 5 जुलाई 1946) – हिन्दी साहित्य  में  महत्त्वपूर्ण कहानीकार एवं   नाटककार के रूप में सम्मानित नाम हैं। इन्होंने कहानी, नाटक, उपन्यास, यात्रा-वृत्तांत, फिल्म तथा चित्रकला आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण रचनात्मक योगदान किया है। इन्होने दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में लगभग 40 वर्षों तक अध्यापन किया एवं हिन्दी विभाग के अध्यक्ष रहे । हम उनके […]

Read More

जामिया, मुजीब भाई और मैं (2) : असग़र वजाहत

July 2, 2020

असग़र वजाहत (जन्म – 5 जुलाई 1946) – हिन्दी साहित्य  में  कहानीकार एवं  नाटककार के रूप में सम्मानित नाम है । कहानी, नाटक, उपन्यास, यात्रा-वृत्तांत, फिल्म तथा चित्रकला आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण रचनात्मक योगदान किया है। इन्होने दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में लगभग 40 वर्षों तक अध्यापन किया एवं हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष रहे । हम उनके जामिया से […]

Read More

जामिया, मुजीब भाई और मैं (1) : असग़र वजाहत

June 30, 2020

असग़र वजाहत (जन्म – 5 जुलाई 1946) – हिन्दी साहित्य  में  कहानीकार एवं  नाटककार के रूप में सम्मानित नाम है । कहानी, नाटक, उपन्यास, यात्रा-वृत्तांत, फिल्म तथा चित्रकला आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण रचनात्मक योगदान किया है। इन्होने दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में लगभग 40 वर्षों तक अध्यापन किया एवं हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष रहे । हम उनके जामिया […]

Read More

बहुत गहरी हैं नस्लीय और जातिवादी नफरत की जड़े – राम पुनियानी

June 29, 2020

अमरीका के मिनियापोलिस शहर में जॉर्ज फ्लॉयड नामक एक अश्वेत नागरिक की श्वेत पुलिसकर्मी डेरेक चौविन ने हत्या कर दी. चौविन ने अपना घुटना फ्लॉयड की गर्दन पर रख दिया जिससे उसका दम घुट गया. यह तकनीक इस्राइली पुलिस द्वारा खोजी गई है. श्वेत पुलिसकर्मी नौ मिनट तक अपना घुटना फ्लॉयड की गर्दन का रखे […]

Read More

जलवायु परिवर्तन : एक वैश्विक चुनौती

June 27, 2020

मोहित कुमार उपाध्याय पर्यावरण संरक्षण के प्रति चिंता प्रकट करते हुए महात्मा गांधी ने कहा हैं कि पृथ्वी प्रत्येक व्यक्ति की  आवश्यकता को पूरा कर सकती हैं परन्तु किसी भी एक व्यक्ति के लालच को पूरा नहीं कर सकती। यह विधि की विडंबना ही हैं कि  आधुनिक समय में,  प्रकृति के सर्वश्रेष्ठ जीव की रचना […]

Read More

शहर की अर्थव्यवस्था का काम होगा तमाम? – ऑनिंद्यो चक्रवर्ती

June 20, 2020

मोदी सरकार की नीतियों के कारण क्या होगा गाँव और शहर की अर्थव्यवस्था का हाल। इस वीडियो में बता कहे हैं वरिष्ठ पत्रकार ऑनिंद्यो चक्रवर्ती – नीचे दी गई लिंकपर जाकर सुन सकते हैं – https://www.youtube.com/watch?v=OZrVoMKmSDA&feature=youtu.be (सौज न्यूज़क्लिक)

Read More

रानी लक्ष्मीबाई शहादत दिवस पर : रानी झांसी की तलवार जिसके अंग्रेज भी उतने ही मुरीद थे जितने हम हैं

June 18, 2020

पुलकित भारद्वाज एक अंग्रेज अफ़सर ने लक्ष्मीबाई के बारे में लिखा था, ‘वो बहुत ही अद्भुत और बहादुर महिला थी. यह हमारी खुशकिस्मती थी कि उसके पास उसी के जैसे आदमी नहीं थे’ 15 मार्च 1854. गोधूलि बेला में झांसी का सफेद शाही हाथी घुड़सवार दस्तों के साथ राजमहल की तरफ बढ़ रहा था. आमतौर […]

Read More

लॉकडाउन का इस्तेमाल असहमति को दबाने के लिए किया गया: ह्यूमन राइट्स वॉच

June 17, 2020

मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच की दक्षिण एशिया निदेशक मीनाक्षी गांगुली ने कहा, “भारत सरकार ने राष्ट्रव्यापी कोविड-19 लॉकडाउन का इस्तेमाल कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने, असहमति को दबाने और भेदभावपूर्ण नीतियों के खिलाफ संभावित विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए किया है। पुलिस उत्पीड़न के पिछले मामलों को संबोधित करने के बजाय, मालूम पड़ता है […]

Read More