Uncategorized

हिन्दू-मुस्लिम एकता और आज़ादी के नायक मौलाना मोहम्मद अली जौहर

December 13, 2020

शाहीन अंसारी दौर-ए-हयात आएगा क़ातिल क़ज़ा के बाद है इब्तिदा हमारी तिरी इंतिहा के बाद। मौलाना मोहम्मद अली जौहर को मोहम्मद अली के नाम से भी जाना जाता है जो स्वतंत्रता संग्राम के भावुक सेनानियों में थे। वह एक बहुमुखी प्रतिभा के व्यक्ति थे और उन्होंने  ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ प्रयासों में एक बड़ी […]

Read More

बिरसा मुंडा : जिनके उलगुलान और बलिदान ने उन्हें ‘भगवान’ बना दिया

November 15, 2020

अनुराग भारद्वाज हालात आज भी वैसे ही हैं जैसे बिरसा मुंडा के वक्त थे. आदिवासी खदेड़े जा रहे हैं, दिकू अब भी हैं. जंगलों के संसाधन तब भी असली दावेदारों के नहीं थे और न ही अब हैं 1895 में बिरसा ने अंग्रेजों की लागू की गयी ज़मींदारी प्रथा और राजस्व-व्यवस्था के ख़िलाफ़ लड़ाई के […]

Read More

मी लॉर्ड, ‘व्यक्तिगत आज़ादी’ सिर्फ़ अर्णब के लिए क्यों?

November 13, 2020

पवन उप्रेती सुप्रीम कोर्ट न्याय की सर्वोच्च संस्था है और उसकी गरिमा का देश का हर व्यक्ति सम्मान करता है। लेकिन उससे इतना तो पूछा जा सकता है कि ‘व्यक्तिगत आज़ादी‘ का जो अधिकार अर्णब गोस्वामी को हासिल है, वो वरवर राव, स्टेन स्वामी, उमर खालिद और अन्य लोगों को हासिल क्यों नहीं है।  आर्किटेक्ट अन्वय […]

Read More

मान्यता के लिए हर जतन करने वाले आज के युवाओं को उस उजले मुक्तिबोध की याद दिलानी चाहिए – अशोक वाजपेयी

November 13, 2020

अपने जीवनकाल में अपना पहला कविता संग्रह तक प्रकाशित न देख पाने वाले मुक्तिबोध आज प्रासंगिकता और सार्थकता के सबसे ऊंचे शिखर पर खड़े हैं आज याने 13 नवम्बर 2020 को गजानन माधव मुक्तिबोध अगर जीवित होते तो अपनी आयु के 105वें वर्ष में प्रवेश कर रहे होते. यह, सब कुछ के बावजूद, हिंदी की […]

Read More

मिर्ज़ापुर की गद्दी और बदला लेने की कहानी है ‘मिर्जापुर 2’

October 25, 2020

दीपाली श्रीवास्तव जिसका सभी को इंतजार था, आख़िर वह सीरीज़ आ गई। ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो पर सीरीज़ ‘मिर्जापुर 2’ रिलीज़ हो चुकी है। इसका पहला सीज़न साल 2018 में आया था और इसके दूसरे सीज़न का लोगों को बेसब्री से इंतजार था। पहले सीज़न में भी गोली, गाली और ख़ून-ख़राबा था और […]

Read More

‘मध्य वर्ग अगर सच को सच कहने का साहस दिखाए तो समाज और राजनीति में हो रहा पतन रोका जा सकता है’

October 25, 2020

कविता करीब दो दशक पुराने इस साक्षात्कार में निर्मल वर्मा ने भारतीय समाज की चुनौतियों से जुड़ी जो बातें कही थीं वे आज भी ठीक उन्हीं अर्थों में महत्वपूर्ण बनी हुई हैं निर्मल वर्मा को उनकी रचनाओं के माध्यम से देखने वाले उन्हें आत्मनिष्ठ, संशयों से घिरे, दुख से लिपटे रहने और उनका उत्सव मनाने […]

Read More

कहानीः ऐसे ही किसी दिन – गाब्रिएल गार्सिया मार्केज

October 17, 2020

गेब्रियल गार्सिया मार्केज़ (6 मार्च 1927 – 17 अप्रैल 2014) विश्वविख्यात साहित्यकार.  वामपंथी विचारधारा की ओर झुकाव रहा।  इसके चलते उन पर अमेरिका और कोलम्बिया सरकारों द्वारा देश में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगया गया। प्रथम कहानी-संग्रह लीफ स्टार्म एंड अदर स्टोरीज 1955 में प्रकाशित: नो वन नाइट्, टु द कर्नल एंड अदर स्टोरीज और आइज़ ऑफ ए डॉग श्रेष्ठ कहानी संग्रह […]

Read More

कहानीः स्वार्थी राक्षस – ऑस्कर वाइल्ड

October 7, 2020

ऑस्कर वाइल्ड (15 अक्टूबर 1854-30 नवम्बर 1900-पेरिस) – अद्भुत कल्पनाशीलता और प्रखर विचारों के धनी ऑस्कर वाइल्ड ने कई उल्लेखनीय  कविता, कहानी,उपन्यास और नाटक लिखे। अँग्रेजी साहित्य में उनका नाम प्राथमिकता से लिया जाता है। विश्व की कई भाषाओं में उनकी कृतियाँ अनुवादित हो चुकी हैं। ‘द बैलेड ऑफ रीडिंग गोल’ और ‘डी प्रोफनडिस’, ‘द […]

Read More

जो मुक्तिबोध में सिर्फ अंधेरा, भीषण या भयानक ही देखते हैं वे उन्हें जानते नहीं – अपूर्वानंद

September 11, 2020

मुक्तिबोध ने कहा था कि ज़िंदगी मुश्किल है लेकिन इतनी मीठी कि जी चाहता है, एक घूंट में पी जाएं. उनका यह वाक्य ही उन्हें समझने के लिए दिए का काम कर सकता है. मुक्तिबोध का ज़िक्र आते ही ‘अंधेरे में’ की याद आती है. इस वजह से अंधेरापन मुक्तिबोध को परिभाषित करने वाले प्रत्यय […]

Read More

सुदर्शन न्यूज़ द्वारा सिविल सेवा में मुस्लिम समुदाय के लोगों की भर्ती के खिलाफ“ नौकरशाही जिहाद” पर चौतरफा विरोध

August 28, 2020

छद्म राष्ट्रवाद के नाम पर जहर उगलने वाले कुछ चैनल इस्लामोफोबिक और नफ़रती ख़बरें परोसने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। सांप्रदायिकता फैलाने के लिए कई बार फेक न्यूज़ का सहारा लेने के आरोपी सुदर्शन टीवी ने सिविल सेवा में मुस्लिम समुदाय के लोगों की भर्ती को टारगेट करते हुए एक प्रमोशनल वीडियो शेयर किया […]

Read More