Author: Jeevesh Chaube

महबूबा मुफ़्ती एक साल बाद की गईं रिहा

October 14, 2020

सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर महीने के आख़िर में सुनवाई के दौरान जम्मू कश्मीर प्रशासन से कहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को हमेशा के लिए हिरासत में नहीं रखा जा सकता है। महबूबा की बेटी इल्तिजा मुफ्ती की ताज़ा याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था। कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से अपने रुख की जानकारी देने के लिए […]

Read More

शैलेश मटियानी की विलक्षण प्रतिभा भी उन पर चस्पा ‘बूचड़ की औलाद’ का लेबल नहीं हटा सकी

October 14, 2020

कविता छोटी सी उम्र में ही बूचड़खाने में काम कर चुके शैलेश मटियानी के लिए संघर्ष जीवन में कभी कम नहीं हुए लेकिन इनके साथ ही उनकी विलक्षण लेखकीय यात्रा चलती रही. राजेंद्र यादव अक्सर कहते थे, ‘मटियानी हमारे बीच वह अकेला लेखक है जिसके पास दस से भी अधिक नायाब और बेहतरीन ही नहीं, […]

Read More

‘लता जी का गाना भीतर से निकली हुई इबादत की तरह है’ – गुलज़ार

September 28, 2020

लता मंगेशकर के गाने को सुनकर ऐसा नहीं कह सकते कि ‘अरे यार, क्या कमाल का गाती हैं.’ उनके संगीत के लिए इज्जत की भावना अपने-आप मन में उठती हैउन्होंने अरेबियन नाइट्स की कहानियों की तरह आवाज का ऐसा जादुई कालीन अपने गीतों के बहाने बिछाया हुआ है जिस पर पिछले पचास-साठ साल से न […]

Read More

क्यों यह कहना गलत है कि अर्थव्यवस्था के बुरे हाल के लिए सरकार नहीं सिर्फ कोरोना जिम्मेदार है?

September 5, 2020

अजय कुमार अर्थव्यवस्था के ऐसे बुरे हाल के पीछे कोरोना का बहुत बड़ा हाथ रहा। इस तर्क से किसी को कोई परेशानी नहीं है। लेकिन इसका दोष सरकार को नहीं दिया जाना चाहिए, सरकार से सवाल नहीं पूछा जाना चाहिए। यह बिल्कुल गलत है। हमारे लोकतंत्र के बहुत सारी परेशानियों में से एक अहम परेशानी […]

Read More

लद्दाख विवादः शब्दों के चयन और ऐलानों में सावधानी बरतें , मनमोहन सिंह की मोदी को नसीहत

June 22, 2020

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने  कहा है कि आज हम इतिहास के एक नाजुक मोड़ पर खड़े हैं। हमारी सरकार के निर्णय व सरकार द्वारा उठाए गए कदम तय करेंगे कि भविष्य की पीढ़ियां हमारा आंकलन कैसे करें। जो देश का नेतृत्व कर रहे हैं, उनके कंधों पर कर्तव्य का गहन दायित्व है। हमारे […]

Read More

सोनिया गांधी का पत्र: यह वक्त दलगत बयानबाज़ी का नहीं बल्कि लोगों का जीवन बचाने का है

June 8, 2020

(कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मनरेगा स्कीम को लेकर एक खुला पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि देश पर कोरोना का महासंकट छाया हुआ है और उसके चलते भूख और गरीबी दावानल के आग की तरह बढ़ती जा रही है। ऐसे मौके पर उससे लड़ने के लिए मनरेगा सबसे कारगर हथियार के तौर पर […]

Read More

सप्रे मैदान का खेलः कभी तुम पद पर हम पंडाल में कभी हम पद पर तुम पंडाल में – जीवेश चौबे

June 2, 2020

अंधेरों में लोगों से छुपकर चूचाप देर रात सन्नाटे में तो सिर्फ गलत काम ही किया जाता है सुन रखा है बचपन से । क्या इसीलिए रात का कर्फ्यू लगाया है कि जनता को घरों में नजरबंद कर तमाम अनैतिक और असंवैधानिक कामों को  रात के सन्नाटे में आसानी से अंजाम दिया जा सके ? […]

Read More

मजदूर भी मुआवजे के हकदार हैं- जीवेश चौबे

May 29, 2020

पिछले दो माह से लॉक डाउन , कर्फ्यू, ताली थाली घंटे की नौटंकी के बाद अब कह रहे हैं कोरॉना के साथ ही जीना सीखें।  करोड़ों कामगारों  को सड़क पे मरने छोड़कर अब हाथ खड़े कर रहे हैं। इतनी बेशर्मी और क्रूरता सिर्फ एक सेडिस्ट ही कर सकता है।क्या कामगार इस देश के नागरिक नहीं […]

Read More

भूपेश बघेल की किसान न्याय योजना क्या कॉंग्रेस के लिए गेम चेंजर साबित होगी ? – जीवेश चौबे

May 22, 2020

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा राजीव गांधी की पुण्यतिथि 21 मई के दिन प्रदेश में किसानों के लिए ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’  लांच की गई है, जो राहुल गांधी की महत्वाकांक्षी ‘न्याय’ योजना का ही परिवर्तित रूप है। इस योजना का महत्वपूर्ण पहलू यह है कि ‘ न्याय ’ योजना के अनुरूप राशि सीधे किसानो […]

Read More

Corona Virus, the economy and immunity- Cobad Ghandhy

April 26, 2020

In these days of technology, mass hysteria spreads like wildfire, throughout the world, particularly when it is promoted by the rulers and/or religion. Ganapati drinking milk was one example; the skylab falling was another. There were many more such phobia like even the Y2K crisis. In Jharkhand jail a tribal told me that even in […]

Read More