Author: admin

क्या गंगा-जमुनी तहजीब कल्पना मात्र है? -राम पुनियानी 

October 16, 2021

भारतीय-मुस्लिम अंतरसंबंधों से गंगा-जमुनी तहजीब उपजी. देश में साम्प्रदायिक राष्ट्रवाद के उदय और उसके द्वारा अतीत की चुनिंदा घटनाओं की संकीर्ण व्याख्या किए जाने के कारण राजाओं को धर्म के चश्मे से देखा जाने लगा. मुस्लिम राजाओं के बारे में जो कुछ कहा गया वह अर्धसत्य था. अंग्रेजों ने इतिहास का साम्प्रदायिकीकरण किया और मुसलमानों […]

Read More

लखीमपुर खीरी हिंसा: जांच में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं- सुप्रीम कोर्ट

October 8, 2021

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में आज दूसरे दिन सुनवाई के दौरान शीर्ष कोर्ट ने कहा कि वह लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की जांच में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं है।गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई […]

Read More

मनोज कुमार पांडेय को कहानी संग्रह ‘बदलता हुआ देश’ के लिए पहला स्वयं प्रकाश स्मृति सम्मान

September 28, 2021

दिल्ली ।  साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में कार्यरत संस्थान ’स्वयं प्रकाश स्मृति न्यास’ ने सुप्रसिद्ध साहित्यकार स्वयं प्रकाश की स्मृति में दिए जाने वाले वार्षिक सम्मान की घोषणा कर दी है। न्यास के अध्यक्ष प्रो मोहन श्रोत्रिय ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर के इस सम्मान में इस बार कहानी विधा के लिए सुपरिचित कथाकार […]

Read More

छत्तीसगढ़ में संस्कृति परिषद का गठनः अपेक्षाएं और संभावनाएं – जीवेश चौबे

September 27, 2021

सरकार गठित संस्थाओं में पद हासिल करने के लिए पदलोलुप और मौकापरस्त चारण भाट नुमा लोग मंत्रियों के दरबार में हाजिरी बजाते रहते हैं। ज्यादातर सत्ता भी चारण भाटों का सानिध्य पसंद करती है।मगर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिस तरह संस्कृति परिषद के गठन की व्यापक परिकल्पना की है और उत्साह दिखाया है उससे यह […]

Read More

तेल की राजनीति, तालिबान और इस्लामोफोबिया का भारत पर प्रभाव -राम पुनियानी

September 24, 2021

अफगानिस्तान से अमरीकी सेना की वापसी के नतीजे में वहां तालिबान सत्ता में आ गए हैं. अफगानिस्तान का घटनाक्रम चिंता पैदा करने वाला है. वहां के अल्पसंख्यकों और मुसलमानों ने देश से किसी भी तरह भाग निकलने के जिस तरह के प्रयास किए वे दुःखद और दिल को हिला देने वाले थे. इस घटनाक्रम ने […]

Read More

हिंदू कॉलेज, दिल्ली में डॉ. दीपक सिन्हा स्मृति व्याख्यान का आयोजन – भारतीय साहित्य मानव जाति की प्राचीन ज्ञान परंपरा का दर्पण है : प्रो. अवधेश प्रधान

September 17, 2021

नई दिल्ली । ‘भारतीय साहित्य की अवधारणा भारत से जुड़ी है । भारत एक बहुनस्लीय, बहुधर्मी तथा बहुभाषी देश है । भारतीय साहित्य के संबंध सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसके तार पाकिस्तान, बांग्लादेश, चीन, तिब्बत तथा दक्षिणी एशिया से भी जुड़े हैं ।’ उक्त विचार हिंदी के सुपरिचित आलोचक एवं काशी […]

Read More

अमेरिकी विदेश नीति ने न केवल विश्व को, बल्कि अमेरिकियों को भी पहुंचाया नुकसान

September 13, 2021

कैटरीना वेंडेन ह्यूवेल 9/11 की बरसी पर हमें दशकों से असफल हो रही अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा नीति की तरफ़ ध्यान देने की जरूरत है। अमेरिकी विदेशी नीति के सतत सैन्यीकरण ने वास्तविक सुरक्षा चिंताओं से निपटने में अमेरिका की क्षमता को नुकसान पहुंचाया है। यह वह समस्याएं हैं, जिनसे ना केवल अमेरिका, बल्कि पूरे ग्रह […]

Read More

भागवत जी! मुसलमान सबसे पहले व्यापारी बन कर आये थे!

September 13, 2021

रविकान्त रामधारी सिंह दिनकर ने अपनी चर्चित किताब ‘संस्कृति के चार अध्याय’ में लिखा है कि, “इसलाम जब  अपने निर्मल उत्कर्ष पर था, तब भी वह भारत में आ चुका था। किंतु, तब उसका आगमन मित्रता के नाते हुआ था। अरब, फ़लीस्तीन और मिस्र से भारत का प्राचीनतम व्यापारिक संबंध था। भारत और पश्चिम के […]

Read More

लघु पत्रिका दिवस पर संभावना द्वारा वेबिनार का आयोजन- मनुष्यधर्मी मूल्यों की स्थापना लघु पत्रिकाओं का उद्देश्यः डॉ राजीव रंजन गिरि

September 13, 2021

चित्तौड़गढ़। हिंदी साहित्य के अतीत और वर्तमान को पहचानने और विश्लेषित करने की कोई भी कोशिश, लघु-पत्रिकाओं की दुनिया पर नजर डाले बिना, पूरी नहीं हो सकती।  युवा अध्येता और दिल्ली विश्वविद्यालय में हिंदी के सहायक आचार्य डॉ राजीव रंजन गिरि ने कहा कि छोटे  छोटे शहरों-कस्बों से निकलती रहीं लघु पत्रिकाओं ने साहित्य के […]

Read More

क्या सभी कट्टरपंथी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे होते हैं? -राम पुनियानी

September 11, 2021

अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापिसी ने उनके पिछले शासनकाल की यादें ताजा कर दी हैं. उस दौरान तालिबान ने शरिया का अपना संस्करण लागू किया था और महिलाओं का भयावह दमन किया था. उन्होंने पुरूषों को भी नहीं छोड़ा था. पुरूषों के लिए एक विशेष तरह की पोशाक और दाढ़ी अनिवार्य बना दी […]

Read More