चीन ने अमेरिका को पछाड़ाः 20 सालों में सारी दुनिया की दौलत तिगुना बढ़ी

November 17, 2021

एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले दो दशकों में वैश्विक संपत्ति बढ़ कर तिगुनी हो गई है और अमेरिका को पछाड़ चीन पहले पायदान पर आ गया है. अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट छापी है जिसके मुताबिक़, कंसल्टेंट कंपनी मैकेंज़ी ने अपनी एक रिसर्च रिपोर्ट में ये अनुमान पेश किया है.इस रिपोर्ट को दुनिया की आय के […]

Read More

जिन्ना पर अखिलेश यादव की टिप्पणी: समकालीन राजनीति पर बढ़ता साम्प्रदायिकता का दबाव -राम पुनियानी

November 15, 2021

हमारे देश में जैसे-जैसे साम्प्रदायिकता का बोलबाला बढ़ता जा रहा है वैसे-वैसे राजनैतिक लक्ष्यों को हासिल करने के लिए सांप्रदायिक प्रतीकों और नायकों के इस्तेमाल का चलन भी बढ़ रहा है. अपने-अपने राजनैतिक एजेंडे की पूर्ति के लिए विभिन्न राजनैतिक शक्तियां अलग-अलग व्यक्तित्वों का इस्तेमाल कर रहीं हैं. लोगों को बांटने पर आधारित राजनीति का […]

Read More

चंबल के 400 डकैतों को सरेंडर कराने वाले सुब्बाराव को आप कितना जानते हैं

October 28, 2021

कुमार प्रशांत सलेम नानजुंदैया सुब्बाराव या सुब्बारावजी या देश भर के अनेकों के लिए सिर्फ़ भाईजी का अवसान एक ऐसे सिपाही का अवसान है जिससे हमारे मन भले शोक से भरे हों, लेकिन कामना है कि हम सबके दिल नए संकल्प से भर जाएं. सुब्बारावजी आज़ादी के सिपाही थे लेकिन वे उन सिपाहियों में नहीं […]

Read More

आर्यन खान ड्रग्स केस : गवाह किरण गोसावी गिरफ्तार

October 28, 2021

आर्यन खान ड्रग केस में फरार एनसीबी के गवाह किरण गोसावी को पकड़ लिया गया है। पुणे के पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता ने बताया कि किरण गोसावी को हिरासत में लिया गया है। उल्लेखनीय है कि गोसावी वही व्यक्ति है जो आर्यन खान के साथ सेल्फी लेकर सुर्खियों में आया था। गोसावी आर्यन केस में एनसीबी […]

Read More

क्या गंगा-जमुनी तहजीब कल्पना मात्र है? -राम पुनियानी 

October 16, 2021

भारतीय-मुस्लिम अंतरसंबंधों से गंगा-जमुनी तहजीब उपजी. देश में साम्प्रदायिक राष्ट्रवाद के उदय और उसके द्वारा अतीत की चुनिंदा घटनाओं की संकीर्ण व्याख्या किए जाने के कारण राजाओं को धर्म के चश्मे से देखा जाने लगा. मुस्लिम राजाओं के बारे में जो कुछ कहा गया वह अर्धसत्य था. अंग्रेजों ने इतिहास का साम्प्रदायिकीकरण किया और मुसलमानों […]

Read More

लखीमपुर खीरी हिंसा: जांच में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं- सुप्रीम कोर्ट

October 8, 2021

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में आज दूसरे दिन सुनवाई के दौरान शीर्ष कोर्ट ने कहा कि वह लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की जांच में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं है।गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई […]

Read More

मनोज कुमार पांडेय को कहानी संग्रह ‘बदलता हुआ देश’ के लिए पहला स्वयं प्रकाश स्मृति सम्मान

September 28, 2021

दिल्ली ।  साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में कार्यरत संस्थान ’स्वयं प्रकाश स्मृति न्यास’ ने सुप्रसिद्ध साहित्यकार स्वयं प्रकाश की स्मृति में दिए जाने वाले वार्षिक सम्मान की घोषणा कर दी है। न्यास के अध्यक्ष प्रो मोहन श्रोत्रिय ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर के इस सम्मान में इस बार कहानी विधा के लिए सुपरिचित कथाकार […]

Read More

छत्तीसगढ़ में संस्कृति परिषद का गठनः अपेक्षाएं और संभावनाएं – जीवेश चौबे

September 27, 2021

सरकार गठित संस्थाओं में पद हासिल करने के लिए पदलोलुप और मौकापरस्त चारण भाट नुमा लोग मंत्रियों के दरबार में हाजिरी बजाते रहते हैं। ज्यादातर सत्ता भी चारण भाटों का सानिध्य पसंद करती है।मगर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिस तरह संस्कृति परिषद के गठन की व्यापक परिकल्पना की है और उत्साह दिखाया है उससे यह […]

Read More

तेल की राजनीति, तालिबान और इस्लामोफोबिया का भारत पर प्रभाव -राम पुनियानी

September 24, 2021

अफगानिस्तान से अमरीकी सेना की वापसी के नतीजे में वहां तालिबान सत्ता में आ गए हैं. अफगानिस्तान का घटनाक्रम चिंता पैदा करने वाला है. वहां के अल्पसंख्यकों और मुसलमानों ने देश से किसी भी तरह भाग निकलने के जिस तरह के प्रयास किए वे दुःखद और दिल को हिला देने वाले थे. इस घटनाक्रम ने […]

Read More

हिंदू कॉलेज, दिल्ली में डॉ. दीपक सिन्हा स्मृति व्याख्यान का आयोजन – भारतीय साहित्य मानव जाति की प्राचीन ज्ञान परंपरा का दर्पण है : प्रो. अवधेश प्रधान

September 17, 2021

नई दिल्ली । ‘भारतीय साहित्य की अवधारणा भारत से जुड़ी है । भारत एक बहुनस्लीय, बहुधर्मी तथा बहुभाषी देश है । भारतीय साहित्य के संबंध सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसके तार पाकिस्तान, बांग्लादेश, चीन, तिब्बत तथा दक्षिणी एशिया से भी जुड़े हैं ।’ उक्त विचार हिंदी के सुपरिचित आलोचक एवं काशी […]

Read More