शाहीन बाग की दादी बिलकिस ‘टाइम’ के 100 प्रभावशाली लोगों में

September 24, 2020

शाहीन बाग की दादी के नाम से मशहूर बिलकिस को अमेरिकी टाइम पत्रिका ने 100 सबसे ज्यादा प्रभावशाली व्यक्तियों में माना है। गौरतलब है कि सीएए और एनआरसी के विरोध में हुए जिस शाहीन बाग प्रदर्शन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयोग नहीं, प्रयोग कहा था और यह भी कहा था कि आतंकवादियों को उनके […]

Read More

प्रेम के मामले में इस जनजाति जितना परिपक्व होने में हमें एक सदी और लग सकती है

September 24, 2020

पुलकित भारद्वाज 39 वर्षीय लक्ष्मी देवी गरासिया की. वे राजस्थान के सिरोही ज़िले के आबू रोड ब्लॉक में पड़ने वाले घणका गांव में रहती हैं. उनके साथ रहते हैं उन्हीं के हमउम्र गोविंद गरासिया. देसी अंदाज में कहें तो लक्ष्मी देवी और गोविंद गरासिया ने बीस दिवाली के दीए साथ में जलाए हैं, बीस बार […]

Read More

हिन्दू कॉलेज दिल्ली में ‘फिल्मों में गीत लेखन : अवसर एवं चुनौतियां’ पर वेबिनार

September 23, 2020

दिल्ली।  ‘जिनकी जिंदगी संघर्षों से लदी हुई है। वे वॉचमैन जो चौबीस घंटे कठिन ड्यूटी करते हैं दो जून रोटी के लिए अपना घर-अपना देस छोड़कर महानगरों में बदहाल  स्थितियों में रहने के लिए विवश हैं। ऐसे ही लोग ‘बंबई में का बा’ जैसे गीत के प्रेरणास्रोतों में से एक हैं। सुप्रसिद्ध गीतकार डॉ सागर […]

Read More

संपादक से सभापति के बीच ठाकुर हरिवंश नारायण सिंह के करतब

September 23, 2020

जितेन्द्र कुमार हरिवंश कितने नैतिक हैं इसका अंदाजा आप इससे भी लगा सकते हैं कि वर्ष 2014 में वह राज्यसभा में मनोनीत होते हैं, लेकिन आने वाले तीन वर्षों तक प्रभात खबर से 60 लाख रुपये से अधिक की राशि लगातार ले रहे हैं, जिसका जिक्र वह अपने आयकर रिटर्न में करते हैं। कायदे से […]

Read More

किसान बनाम पूँजीवाद: जातिगत राजनीति के नवउदारवादी हत्यारे

September 23, 2020

प्रबुद्ध सिंह जब किसानों को फसल का लाभकारी मूल्य नहीं मिलता है तो क्या उसी अनुपात में यह भूमिहीन किसानों (एक बार फिर से इसमें अधिकतर दलित और आदिवासी आबादी शामिल है) की आय पर प्रतिकूल असर डालने वाला साबित नहीं होता है? जब एक बार खेतीबाड़ी के “संपूर्ण पतन” के चलते ग्रामीण आय पूरी […]

Read More

फर्जी खबरों का कारोबार और भारतीय मीडिया पर उठते सवाल

September 23, 2020

संजय राय पच्चीस साल यानी एक चौथाई सदी पूरी हो गयी! 1995 में 21 सितंबर (गणेश चतुर्थी) को यह अफवाह फैली कि गणेश प्रतिमाएं दूध पी रही हैं। देखते ही देखते मंदिरों में भीड़ लग गई। न्यूज़ चैनलों पर अटल बिहारी वाजपेयी समेत कई नेता गणेश जी को दूध पिलाते दिख रहे थे। इसके बाद […]

Read More

जन सरोकार से जुड़ी खबरें मुख्यधारा से क्यों गायब हैं ?

September 23, 2020

नेटफ्लिक्स पर हाल ही में रिलीज हुआ डॉक्यूड्रामा “सोशल डायलेमा” इन दिनों काफी चर्चा में है.यह हमें बताती है कि लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए सोशल वेबसाइट्स द्वारा जो अल्गोरिदम सेट किए जा रहे हैं वह ऑब्जेक्टिव नहीं हैं. वह “किसी कामयाबी की परिभाषा” के तहत गढ़े जा रहे हैं. इसी डाक्यूड्रामा से […]

Read More

क्या सरकार अब सोशल मीडिया और न्यूज पोर्टलों का मुँह बंद करना चाहती है ? – जीवेश चौबे

September 22, 2020

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सुदर्शन न्यूज़ चैनल की मंशा व नीयत पर सवाल उठाते हुए पर ‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम के प्रसारण पर अगली सुनवाई तक रोक लगा दी है। कोर्ट ने कहा है, ‘आप एक धर्म विशेष को टारगेट नहीं कर सकते किसी एक विशेष तरीक़े से।’ सुप्रीम कोर्ट में जारी सुनवाई के चलते […]

Read More

कहानीः दो बूंद आंसू- इवान सर्जीविच तुर्गनेव

September 22, 2020

इवान सर्जीविच तुर्गनेव  – (1818-1883)  रूसी कथाकार  इवान सर्जीविच तुर्गनेव यथार्थवादी लेखक थे। उनकी रचनाओं में प्रेम प्रमुख रूप से शामिल रहता था। यही उनकी रचनाओं  की सबसे बड़ी ताकत थी। ऐसा कहा जाता है कि इवान सर्जीविच तुर्गनेव यूरोप का पहला आधुनिक कथाकार था। आज पढ़ें उनकी कहानी दो बूंद आंसू- इवान सर्जीविच तुर्गनेव वह […]

Read More

कोरोना वायरस के टेस्ट की कीमत इतनी कम हो जाने के बाद भी इतनी ज्यादा क्यों है?

September 22, 2020

विकास बहुगुणा मार्च तक पांच हजार रु में होने वाला कोरोना वायरस का टेस्ट अब डेढ़ हजार रुपये में भी होने लगा है, सरकार के ही मुताबिक देश भर में 1700 से भी ज्यादा लैब्स कोरोना वायरस की टेस्टिंग कर रही हैं. लेकिन इस टेस्टिंग की कीमत तय किए जाने को लेकर मापदंड क्या हैं, इसे लेकर […]

Read More