सामाजिक कार्यकर्ता स्टेन स्वामी के साथ बर्बर बर्ताव क्यों?

November 28, 2020

मुकेश कुमार  क़रीब एक दर्ज़न ऐसे मामले हैं जिन पर तुरंत सुनवाई होनी चाहिए थी, मगर उन्हें लगातार टाला जा रहा है। इनमें धारा 370 से लेकर, इलेक्टोरल बांड, आरटीआई, सीएए, यूएपीए जैसे बहुत ही संगीन मामले शामिल हैं। इनमें से कई मामलों की तो सुनवाई ही शुरू नहीं की गई है। ऐसे में […]

Read More

किसानों ने बदली रणनीति: सिंघू बॉर्डर पर ही डेरा डाला

November 28, 2020

दिल्‍ली कूच पर अपने-अपने घरों से निकले और दो दिन से गरमाये पंजाब-हरियाणा के किसानों ने आज दिल्‍ली पहुंचने के बाद अपनी रणनीति बदल दी। सरकार के दिए निरंकारी मैदान में बैठने से किसानों ने इनकार कर दिया है। अब वे दिल्‍ली को घेर कर बैठेंगे। सिंघु बॉर्डर पर करीब पांच लाख किसान इकट्ठा हैं। […]

Read More

कामगारों को निर्धन बनाकर अर्थव्यवस्था में जारी सुधार लंबे वक़्त तक नहीं टिकेगा

November 28, 2020

प्रभात पटनायक लॉकडाउन से पैदा हुई खाई से उबर रही GDP में सुधार के साथ फ़िलहाल बड़ी मात्रा में श्रम का विस्थापन और वेतन-भत्तों में कमी देखी जा रही है। जब हालात सामान्य होंगे, तो अर्थव्यवस्था कुछ हद तक लॉकडाउन की खाई से निकलकर बाहर आएगी ,लेकिन यह सरकार की बदौलत नहीं है। यहां तक […]

Read More

जब गांधी को खय्याम की रुबाइयां सुनाने वाले बच्चन ने रघुपति राघव राजा राम का ‘सैड वर्जन’ लिखा

November 27, 2020

अव्यक्त अपनी आत्मकथा, ‘दशद्वार से सोपान तक’ में एडेल्फी के अपने घर को याद करते हुए बच्चन लिखते हैं- ‘एडेल्फी, जहां रहते हुए हमने प्रथम स्वाधीनता दिवस मनाया था जहां विभाजन के फलस्वरूप तेजी के कितने ही संबंधियों ने पंजाब से भागकर शरण ली थी; जहां महात्मा गांधी की हत्या का हृदय-विदारक समाचार हमने सुना […]

Read More

RSS के मुखपत्र ने क्यों लिखा था- संविधान में कुछ भी भारतीय नहीं!

November 26, 2020

रविकान्त संविधान में धर्म व्यक्ति का निजी मामला है। लेकिन इस दौर में खुल्लम-खुल्ला धार्मिक राजनीति हो रही है। अब सांप्रदायिक होना शर्म नहीं, बल्कि गर्व की बात है। संविधान में प्रदत्त समता को समरसता में तब्दील किया जा रहा है। समरसता बुनियादी तौर पर भेदपरक फिकरा है। संविधान और लोकतंत्र पर सत्तापक्ष और हिंदुत्ववादी […]

Read More

किसानों के मुद्दे पर संविधान सभा की चुप्पी का नतीजा है कि आज दिल्ली के रास्ते इनके लिए बंद हैं!

November 26, 2020

रमा शंकर सिंह भारत का संविधान समाज के सभी वर्गों के साझा बलिदानों और संघर्षों की दास्तान है। आज के दिन हमें उसका जश्न मनाना चाहिए। यदि आप भारत के संविधान सभा की बहसों को पढ़ें तो पाएंगे कि यह लगभग 4250 मुद्रित पृष्ठों में फैली हुई एक बातचीत है जहां आप भारत के नेताओं […]

Read More

किसानों का दिल्ली कूच: कई किसान नेताओं को पुलिस ने लिया हिरासत में

November 26, 2020

कृषि कानूनों के खिलाफ देश भर के किसानों का गुस्सा फूटा  है, 26 से 28 नवंबर तक पंजाब-हरियाणा-राजस्थान के किसान ‘दिल्ली कूच’ पर निकले किसानों को रोकने के लिए प्रशासन हर सम्भव प्रयास करने में जुटा है। पंजाब और हरियाणा के किसान कृषि को लेकर मोदी सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रहे हैं। सरकार […]

Read More

प्रोफ़ेसर यशपाल हर बच्चे को समझ का चस्का लगा देना चाहते थे – अपूर्वानंद

November 26, 2020

प्रोफेसर यशपाल मानते थे कि प्रश्न करना मनुष्य होने का प्रमाण था इसलिए वे शिक्षकों से कहा करते थे कि बच्चों का पूछा कोई भी प्रश्न पाठ्यक्रम से बाहर नहीं है यशपाल कहा करते थे कि हमारा मकसद बच्चों में समझ का चस्का पैदा करने का होना चाहिए. एक बार उन्हें यह चस्का लग गया, […]

Read More

महान फुटबॉल खिलाड़ी डिएगो माराडोना का निधन

November 26, 2020

फुटबॉल के महान खिलाड़ी डिएगो माराडोना का निधन हो गया। वह 60 साल के थे। उन्हें दिल का दौरा पड़ा था। माराडोना को सर्वकालिक महान फुटबॉलर कहा जाता है। आठ दिन पहले उन्हें इमर्जेंसी ब्रेन सर्जरी के लिए भर्ती करवाया गया था  और कल दिल का दौरा पड़ने से निधन की ख़बर आई। इस महान […]

Read More

परवीन शाकिर ने अपने अंदर की लड़की को मरने नहीं दिया

November 26, 2020

अब्दुल्लाह ज़कारिया नदीम ऐसा नहीं कि परवीन ने सिर्फ़ इश्क़ और रूमान को ही अपनी नज़्मों का मौज़ू’ बनाया है, अपनी ज़मीन और उससे जुड़े हुए मसाइल को भी क़लम-बंद किया है। सिंध की बेटी का सवाल ‘‘फ़र्ज़ंद-ए-ज़मीन’’ ‘‘शहज़ादी का अलमिया’’ और ‘‘बहार अभी बहार पर है’’ जैसी नज़्में भी लिखी हैं जो सियासी और […]

Read More