आलेख

प्रवासी मजदूर: नए दौर के नए अछूत

May 30, 2020

रिचर्ड महापात्रा ग्रामीण क्षेत्रों में रिपोर्टिंग करते समय मुझे बहुत से ऐसे प्रवासी मजदूर मिले हैं, जो अक्सर कहते हैं, “परेशान होकर हम शहरों में आए हैं. हम गांव में थोपी गई जाति व्यवस्था के कारण अपना घर छोड़ने को मजबूर हुए हैं.” ऐसा नहीं है कि केवल गांव ही “महान भारतीय जाति व्यवस्था” का […]

Read More

भगत सिंह नेहरू को सुभाष बोस से ज़्यादा पसंद करते थे! – अपूर्वानंद

May 29, 2020

यह तथ्य बहुत कम याद दिलाया जाता है कि न सिर्फ़ जवाहरलाल बल्कि उनके पिता मोतीलाल का भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद और उनके संगठन से अत्यंत स्नेह का रिश्ता था। अलावा इसके कि इन दोनों ने क्रांतिकारियों को लगातार आर्थिक मदद दी, राजनीतिक रूप से भी उन्होंने ख़ुद को इनसे पूरी तरह नहीं अलग किया।  […]

Read More

क्यों यह सबसे मुनासिब वक्त है एक राष्ट्रीय सरकार के गठन का- अनिल चमड़िया

May 28, 2020

कोरोना जैसी वैश्विक आपदा और देशव्यापी लॉकडाउन की स्थिति में राष्ट्रीय सरकार का गठन किया जाना चाहिए, और इसके पक्ष में कुछ बेहद ठोस तर्क हैं. सरकार बनाने के लिए वर्तमान में बहुमत का क्या मतलब है. पहला कि सत्ताधारी दल को कभी भी कुल आबादी का बहुमत नहीं होता है. चुनाव में कुल मतदान […]

Read More

यह पैकेज संख्याओं का है, राहत का नहीं : थॉमस इसहाक

May 27, 2020

बहुत ही जल्दी हर किसी को इस पैकेज की हक़ीक़त समझ में आती गयी कि इस पैकेज में जो कुछ पैसे दिख रहे थे, वह सही मायने में अल्पावधि में अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने के लिए बहुत थोड़ी सी रक़म थी।- — (डॉ. टी एम थॉमस इसाक , वित्त मंत्री केरल) वैश्विक अर्थव्यवस्था और राष्ट्रीय […]

Read More

क्या उत्तर प्रदेश सरकार राज्य के निवासियों की मालिक या अभिभावक बन गई है? -अपूर्वानंद

May 27, 2020

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को इस बात से बहुत नाराज़गी है कि दूसरे राज्यों ने ‘उनके लोगों’ की ठीक से देखभाल नहीं की और इस कारण उन्हें इतनी तबाही झेलनी पड़ी. ख़ुद उनकी सरकार ने लोगों का ख़याल कैसे रखा, कैसे महामारी के बहाने ‘अपने लोगों’ के स्वास्थ्य संरक्षण के नाम पर मालिकाना रवैया अख़्तियार कर लिया […]

Read More

‘पाताल लोक’: ‘जिसे हमने मुसलमान नहीं बनने दिया, उसे आप लोगों ने जिहादी बना दिया’

May 26, 2020

अमिताभ वेब सीरीज ‘पाताल लोक’ में इंस्पेक्टर हाथीराम चौधरी और उनके जूनियर इमरान अंसारी ने शानदार अभिनय किया है। ‘पाताल लोक’ में हम अल्पसंख्यकों के मसले पर समाज की सोच की परतें भी उघड़ती देखते हैं कि कैसे एक व्यक्ति पर टिप्पणी करते हुए पूरे समुदाय को निशाना बनाया जाता है। इसमें मुसलमानों पर हमले […]

Read More

भारतीय जनतंत्र के लिए ख़तरे की घंटी है नताशा और देवांगना की गिरफ़्तारी- अपूर्वानंद

May 25, 2020

सफ़ूरा, मीरान के बाद “पिंजरा तोड़” की सदस्यों देवांगना, नताशा को भी दिल्ली में हुई हिंसा की साज़िश में संलिप्तता के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है। गिरफ़्तारी उन लोगों की हो रही है जो दिल्ली में अलग-अलग जगहों पर सीएए, एनआरसी और एनपीआर के ख़िलाफ़ हुए विरोध-प्रदर्शनों में किसी न किसी रूप में शामिल […]

Read More

नफ़रत के सौदागरों को क्यों नहीं दिखती मुसलमानों की इंसानित

May 24, 2020

तनवीर जाफ़री वैसे तो नेताओं के पर्यायवाची के रूप में रहबर, रहनुमा, मार्गदर्शक, नेतृत्व प्रदान करने वाला आदि बड़े ही सुन्दर-सुन्दर शब्द  इस्तेमाल किये जाते हैं। परन्तु यह भी शाश्वत सत्य है कि आज दुनिया में हो रही प्रायः हर उथल-पुथल के लिए यही नेता व रहबर ज़िम्मेदार हैं। इतिहास इस बात का भी हमेशा […]

Read More

कोरोना: मोदी सरकार की अदूरदर्शिता का ख़ामियाज़ा देश भुगत रहा है

May 23, 2020

आशुतोष यह मैं मानता हूँ कि लॉकडाउन कोरोना का समाधान नहीं है लेकिन लॉकडाउन लगाकर जो तैयारी इस बीच करनी चाहिये थी वह नहीं की गयी। हम पश्चिम के देशों से तुलना नहीं कर रहे हैं, पर भारत जैसे 135 करोड़ के देश में डेढ़ महीने से अधिक का वक़्त लग जाए प्रतिदिन एक लाख […]

Read More

कुत्सित नस्लवादी सोच है अपने ही देश में मज़दूरों को ‘प्रवासी’ कहना

May 21, 2020

शम्शुल इस्लाम सारे विश्व को कुनबा मानने वाले हमारे देश के कर्णधार इन मज़दूरों को जिन में से बहुत बड़ी तादाद दलितों, पिछड़ी जातियों और अल्पसंखयकों की है ”प्रवासी” कहकर सिर्फ इन का अपमान ही नहीं कर रहे हैं बल्कि अपनी नस्लवादी सोच को ही ज़ाहिर कर रहे हैं। यह अजीब बात है की जब […]

Read More