Author: admin

किसानों ने सड़क पर ही बना ली है सरकार, सचिवालय से ऐसे मोदी सरकार को भेज रहे हैं संदेश

November 30, 2020

हरीश मानव  केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में पांच दिन से दिल्ली की सीमाआें पर डटे आंदोलनकारी किसान अब बड़े सुनियोजित ढंग से अपने हकों की लड़ाई को आगे बढ़ाने जा रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के बैनर के लिए 100 से अधिक किसान संगठनों ने सड़क पर ही बकाया अपना प्रोटेस्ट सेक्रेट्रिएट […]

Read More

किसानों ने अमित शाह का प्रस्ताव ठुकराया, दिल्ली घेर कर बैठेंगे

November 30, 2020

किसानों के नेताओं ने खुलेआम घोषणा भी कर दी और कुल पांच फैसले लिए। पहला, किसानों ने अमित शाह के प्रस्ताव को अस्वीकार किया। दूसरा, किसान सड़क पर ही डटे रहेंगे। उन्‍होंने बुराड़ी मैदान को जेलखाना बताया है। दिल्ली के सभी पांच मुख्य रास्ते बंद करने का एलान किया है। इसके अलावा किसानों ने देश […]

Read More

आख़िर सरकार ने किसानों पर इतना ज़ुल्म क्यों किया?

November 30, 2020

तनवीर जाफ़री देश का अन्नदाता इन दिनों अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ने के लिए शीत ऋतु में भी अपना घर-बार छोड़ कर सड़कों पर उतर आया है। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि क़ानूनों को सही व किसान हितैषी ठहराते हुए बार-बार एक ही बात दोहराई जा रही है कि ये क़ानून किसानों के हित में […]

Read More

सिख-मुसलमान साथ नहीं आ सकते तो राष्ट्र कैसा?- अपूर्वानंद

November 30, 2020

राष्ट्र का अर्थ है नितांत भिन्न प्रकृति के लोगों की एक दूसरे के प्रति ज़िम्मेवारी की भावना का दृढ़ होना और भिन्न पहचानों के साथ और उनके बावजूद सहभागिता का निर्माण। लेकिन अगर एक बिहारी बंगाली की तकलीफ़ नहीं समझ सकता या एक हिंदू एक मुसलमान का दर्द नहीं साझा कर सकता और एक सिख […]

Read More

असदुद्दीन ओवैसी : “मुसलमानों में गहरी बेचैनी है”

November 29, 2020

भावना विज-अरोड़ा से ओवैसी की बातचीत-  हाल में बिहार विधानसभा चुनावों में पांच सीटें जीतने के बाद सुर्खियों में छाए 51 वर्षीय असदुद्दीन ओवैसी की राजनीति के बारे में कुछ भी लुकाछिपा नहीं है। हमेशा सुर्खियों में रहने को आतुर, हैदराबाद से चार बार के सांसद  भावना विज अरोड़ा से कहते हैं कि इफ्तार पार्टियां करने, मौलानाओं का सम्मान करने […]

Read More

कहानीः पुर्जा – ऑगस्ट स्ट्रिंडबर्ग

November 29, 2020

ऑगस्ट स्ट्रिंडबर्ग  ( 22 जनवरी 1849 – 14 मई 1912 ) ऑगस्ट स्ट्रिंडबर्ग को स्वीडिश उपन्यास का जनक माना जाता है। अनेक चर्चित नाटक, उपन्यास, कहानियों के साथ ही निबंध एवं आलोचना के क्षेत्र में भी प्रतिष्ठित रहे । आज पढ़ें उनकी कहानी- पुर्जा – सामान की आखिरी खेप जा चुकी थी। किराएदार, क्रेपबैंड हैटवाला जवान […]

Read More

फ्रेडरिक एंगेल्स – व्ला. इ. लेनिन

November 28, 2020

 फ्रेडरिक एंगेल्स (जन्मतिथिः 28 नवम्बर, 1820) मज़दूर वर्ग और समस्त मानवता की मुक्ति की विचारधारा, वैज्ञानिक कम्युनिज़्म के सिद्धान्त को विकसित करने कार्ल मार्क्स के अनन्य सहयोगी और मित्र थे। आधुनिक सर्वहारा के महान शिक्षकों में कार्ल मार्क्स के बाद उनका ही नाम आता है। मार्क्स की मृत्यु के बाद एंगेल्स अंतिम साँस तक यूरोप […]

Read More

आज के माहौल में हमें दरगाह क्यों जाना चाहिये? – जस्टिस मार्कंडेय काटजू

November 28, 2020

दरगाहों पर जाकर केवल ऐसे सूफी संतों का सम्मान किया जाता है, उनकी पूजा नहीं की जाती है। मैं नास्तिक हूँ और किसी भी चीज़ की पूजा नहीं करता, लेकिन मैं अक्सर दरगाहों (जैसे अजमेर दरगाह, निज़ामुद्दीन चिश्ती दरगाह, आदि) में जाता हूँ उन सूफियों का सम्मान करने लिए जिन्होंने समाज में प्रेम, सहिष्णुता, भाईचारा […]

Read More

सामाजिक कार्यकर्ता स्टेन स्वामी के साथ बर्बर बर्ताव क्यों?

November 28, 2020

मुकेश कुमार  क़रीब एक दर्ज़न ऐसे मामले हैं जिन पर तुरंत सुनवाई होनी चाहिए थी, मगर उन्हें लगातार टाला जा रहा है। इनमें धारा 370 से लेकर, इलेक्टोरल बांड, आरटीआई, सीएए, यूएपीए जैसे बहुत ही संगीन मामले शामिल हैं। इनमें से कई मामलों की तो सुनवाई ही शुरू नहीं की गई है। ऐसे में […]

Read More

किसानों ने बदली रणनीति: सिंघू बॉर्डर पर ही डेरा डाला

November 28, 2020

दिल्‍ली कूच पर अपने-अपने घरों से निकले और दो दिन से गरमाये पंजाब-हरियाणा के किसानों ने आज दिल्‍ली पहुंचने के बाद अपनी रणनीति बदल दी। सरकार के दिए निरंकारी मैदान में बैठने से किसानों ने इनकार कर दिया है। अब वे दिल्‍ली को घेर कर बैठेंगे। सिंघु बॉर्डर पर करीब पांच लाख किसान इकट्ठा हैं। […]

Read More