सरोकार

‘लॉकडाउन के बाद हमें जवाबदेही का पूरा हिसाब चाहिए’- अरुंधति रॉय

May 26, 2020

लॉकडाउन के बाद मुझे सबसे ज्यादा किस चीज़ की उम्मीद होनी चाहिए? सबसे पहले मुझे बहुत बारीकी से तैयार किया गया जवाबदेही का एक बहीखाता चाहिए. 24 मार्च को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिर्फ चार घंटे के नोटिस पर 138 करोड़ इंसानों के लिए दुनिया के सबसे कठोर और सर्वाधिक अनियोजित लॉकडाउन की […]

Read More

नफरत की आंधी से टक्कर लेती इंसानियत की शमा- राम पुनियानी

May 25, 2020

इस समय हमारा देश कोरोना महामारी की विभीषिका और उससे निपटने में सरकार की गलतियों के परिणाम भोग रहा है. इस कठिन समय में भी कुछ लोग इस त्रासदी का उपयोग एक समुदाय विशेष का दानवीकरण करने के लिए कर रहे हैं. नफ़रत के ये सौदागर, टीवी और सोशल मीडिया जैसे शक्तिशाली जनसंचार माध्यमों के […]

Read More

प्रगतिशील लेखक संघ उत्तर प्रदेश के फेसबुक लाइव में काशीनाथ सिंह का कहानी पाठ

May 24, 2020

प्रगतिशील लेखक संघ उत्तर प्रदेश द्वारा कोरोना काल में फेसबुक लाइव  का आयोजन किया गया। इस फेसबुक लाइव में वरिष्ठ साहित्यकार काशीनाथ सिंह ने अपनी सुप्रसिद्ध कहानी ‘सदी का सबसे बड़ा आदमी’ का पाठ किया । प्रारंभ में प्रदेश महासचिव डॉ. संजय श्रीवास्तव ने आयोजन की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह विपदा […]

Read More

कहानीः ईदगाह- प्रेम चंद

May 24, 2020

रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज का सूर्य देखो, कितना प्यारा, कितना शीतल है, यानी संसार को ईद की बधाई दे रहा है। गॉंव में कितनी हलचल […]

Read More

कोविड-19 का खतरा और मनोवैज्ञानिक भय- कौशिक बसु

May 23, 2020

कोविड-19 के खतरे का मोटे तौर पर गलत अनुमान लगाया गया है। इसके कारण मनोवैज्ञानिक भय पैदा हुआ है जिससे अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हो सकता है और भोजन और आवश्यक सेवाओं की कमी हो सकती है। समूचे यूरोप और पूर्वी एशिया के कुछ देशों में लोगों को इस तथ्य का अहसास हो गया कि […]

Read More

करोना काल में मई दिवस

May 23, 2020

संजय शाम कोरोना के इस विकट  समय में भी  सूर्योदय समय पर हो रहा है और तारे भी आसमान पर समय से जगमगा रहे है प्रकृति की   दिनचर्या अब भी ज्यों कि त्यों  है । हमारी दिनचर्या जरूर अपने जीवन के सबसे बड़े बदलाव के दौर से गुजर रही है । दुनियाभर में लाखों लोग […]

Read More

डॉक्टर की डायरी: दो क्वारन्टीनों के साथ आधा घंटा

May 22, 2020

डॉ. राहुल शर्मा   पिछले ग्यारह दिनों में भोपाल के सभी क्वारन्टीन सेंटर्स में जाना हुआ. क्वारन्टीन किए गए दो सौ से ज़्यादा लोगों की मानसिक स्थिति की जांच, उनको मनोवैज्ञानिक परामर्श देने के साथ ही उनके बीच मनबहलाव के कुछ गतिविधियां भी चलाईं. क्वारन्टीन हुए लोगों और माइग्रेंट्स की मनो-सामाजिक व्यथा सुनना और उनको आश्वस्त […]

Read More

न मूर्तियों से गोडसे जिंदा होंगे,न गोलियों से गांधी मर सकते हैं-प्रियदर्शन

May 21, 2020

गांधी को मारने वाले गोडसे की चाहे जितनी मूर्तियां बना लें, वे गोडसे में प्राण नहीं फूंक सकते. गांधी को वे चाहे जितनी गोलियां मारें, गांधी अब भी सांस लेते हैं एनसीईआरटी के प्रमुख रहे सुख्यात शिक्षाशास्त्री कृष्ण कुमार ने अपनी किताब ‘शांति का समर’ में एक बहुत ही महत्वपूर्ण सवाल उठाया है- राजघाट ही […]

Read More

सिस्टर भगिनी निवेदिता: जिसने सिखाया प्लेग जैसी महामारी से लड़ना

May 21, 2020

हरजिंदर भगिनी निवेदिता मूल रूप से आयरलैंड की नागरिक थीं और वहां उनका नाम था – मार्गरेट एलिजाबेथ नोबेल। स्वामी विवेकानंद से प्रभावित होकर वह भारत आईं और रामकृष्ण मिशन में शामिल हो गईं, जहां पर उन्हें निवेदिता नाम दिया गया। स्वामी विवेकानंद ने प्लेग के प्रति जागरुकता के लिए बांग्ला और हिंदी में प्लेग […]

Read More

फिर आएंगे तुम्हारे सपनों को आबाद करने-नथमल शर्मा

May 20, 2020

             वे चल रहे हैं सड़कों पर । लगातार चल रहे हैं । पेट में भूख और पैरों में छाले है । सूटकेस की गाड़ी है , बच्चे की सवारी है । मां खींच रही है । बच्चे की आंखों में नींद है । सपने में रोटी दिख रही (होगी) […]

Read More