मनोरंजन

JNU के बाद अब उस पर बनी फिल्म राष्ट्रविरोधी! CBFC ने रोकी ‘वर्तमानम’ की स्क्रीनिंग

December 30, 2020

जेएनयू के छात्र आंदोलन पर बनी मलयालम फिल्म ‘वर्तमानम’ को सेंसर बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) के क्षेत्रीय कार्यालय ने स्क्रीनिंग की अनुमति देने से इनकार कर दिया है. इस फिल्म का निर्देशन प्रतिष्ठित फिल्मकार सिद्धार्थ शिवा ने किया है और पुरस्कार विजेता अभिनेत्री पार्वती तिरुवोत ने इसमें मुख्य भूमिका निभाई है.  इस फिल्म की कहानी […]

Read More

कियरोस्तामी का सिनेमाः जहां हम सोने के लिए जाते हैं और जाग जाते हैं

December 28, 2020

सुदर्शन जुयाल ईरान सिनेमा के नक्शे पर था ही नहीं. तब ईरान, खोमैनी का ईरान बन चुका था यानि इस्लामिक ईरान. फ़्रेंच न्यू वेव और इटालियन सिनेमा हमारे ज़ेहन में ज़बरदस्त रूप से छाया हुआ था. साथ ही रूस, पोलैंड, हंगरी, चेकोस्लोवाकिया वगैरह के दमदार फ़िल्मकारों ने हमारे बम्बइया सिनेमा के असर को तार-तार कर […]

Read More

‘टाइगर ज़िंदा है’ जैसी फ़िल्में देने वाले डायरेक्टर के पहले वेब शो ‘तांडव’ का टीज़र जबराट है

December 17, 2020

यमन सैफ अली खान की नई सीरीज़ आ रही है. नाम है ‘तांडव’. शो एक पॉलिटिकल ड्रामा है. दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र इंडिया. उसी की राजधानी की पॉलिटिक्स पर आधारित. यही कारण है कि पहले इसे ‘दिल्ली’ के टाइटल से बनाया जा रहा था. बाद में ‘तांडव’ किया गया. आज ही इसका टीज़र रिलीज़ […]

Read More

‘तीसरी कसम की नाकामी से नहीं टूटे थे शैलेंद्र’

December 14, 2020

प्रदीप कुमार   ढेर सारे नगमे देकर सिर्फ़ 43 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले शैलेंद्र को पचास साल से ज्यादा हो गए मगर आज भी उनके गाने लोगों की ज़बान पर हैं.प्रगतिशील नज़रिए के चलते शैलेंद्र इप्टा और प्रगतिशील लेखक संघ से जुड़ गए. 1947 में जब देश आज़ादी के जश्न […]

Read More

दिलीप कुमारः जिन्हें सत्यजीत रे ने इंडिया का पहला मेथड एक्टर माना था

December 11, 2020

श्वेतांक जैसे ही दिमाग में शब्द ‘ट्रैजेडी’ आता है अचानक से उसमें किंग जैसा विशेषण जुड़ जाता है. और सूरत उभरती है एक अधेड़ उम्र के आदमी की, जो आधी रात को सुनसान सड़क पर अपनी पत्नी के साथ जा रहा है. अचानक से पत्नी की तबीयत बिगड़ती है और ये आदमी बेतहाशा सड़क पर […]

Read More

साबू दस्तगीर : हॉलीवुड में सफलता के सबसे बड़े झंडे गाड़ने वाला भारतीय

December 4, 2020

अंबर श्रीवास्तव करीब आठ दशक पहले अंजाम दिया जा चुका है- साबू दस्तगीर द्वारा. साबू दस्तगीर वह शख्स था जो पैदा तो मैसूर के एक महावत परिवार में हुआ लेकिन, पहले इंग्लैंड और फिर हॉलीवुड पहुंचकर उसने सफलता के ऐसे झंडे गाड़े कि किसी भारतीय कलाकार का हॉलीवुड में इस कदर छाना हाल-फिलहाल संभव नहीं […]

Read More

जब गांधी को खय्याम की रुबाइयां सुनाने वाले बच्चन ने रघुपति राघव राजा राम का ‘सैड वर्जन’ लिखा

November 27, 2020

अव्यक्त अपनी आत्मकथा, ‘दशद्वार से सोपान तक’ में एडेल्फी के अपने घर को याद करते हुए बच्चन लिखते हैं- ‘एडेल्फी, जहां रहते हुए हमने प्रथम स्वाधीनता दिवस मनाया था जहां विभाजन के फलस्वरूप तेजी के कितने ही संबंधियों ने पंजाब से भागकर शरण ली थी; जहां महात्मा गांधी की हत्या का हृदय-विदारक समाचार हमने सुना […]

Read More

बिहार चुनाव पर मनोज वाजपेयी की डायरी, एक अभिनेता का वोट- मनोज वाजपेयी

November 20, 2020

बड़ी उम्मीद बिहार के हर नागरिक को चुनाव के बाद सत्ता में आने वाली हर सरकार से सिर्फ एक ही उम्मीद होती है कि वह अपनी तमाम ऊर्जा के साथ राज्य के हित में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर ध्यान दे। बिहार की धरती के लोगों को शासन चलाने वाले अपने लोगों से बहुत समर्पण की […]

Read More

जब लता मंगेशकर ने चित्रगुप्त से कहा – आपको अपनी चप्पल पर यकीन है, हमारे गाने पर नहीं

November 18, 2020

अनुराग भारद्वाज चित्रगुप्त के संगीत की मधुरता दिग्गज संगीतकारों से कम नहीं थी. फिर भी हिंदी फिल्म उद्योग में वे ताउम्र हाशिये पर रहे मध्यवर्गीय समाज की हलचल और उसके तौर-तरीक़ों वाली ज़िंदगी के इर्द-गिर्द बुनी फ़िल्मों का संगीत चित्रगुप्त का सिग्नेचर स्टाइल था. मैन्डोलिन का जितना प्रभाव उनके संगीत में मिलता है, उतना किसी […]

Read More

स्मृतिशेष सौमित्र चटर्जी: वैचारिक भिन्नताओं से परे एक अभिनेता जिसके जाने का दुख सबको है

November 17, 2020

नित्यानंद गायेन– सिंगुर-नंदीग्राम घटना के बाद से जब पश्चिम बंगाल में वाम दलों का ख़राब समय शुरू हुआ और तमाम बुद्धिजीवी और कार्यकर्ता दल बदल करने लगे उस कठिन समय में भी सौमित्र चटर्जी वाम दलों के पक्ष में खड़े रहें अविचल होकर. मशहूर लेखिका महाश्वेता देवी भी एक समय तृणमूल के समर्थन में आ […]

Read More