खबरें

हिंदू कॉलेज, दिल्ली में डॉ. दीपक सिन्हा स्मृति व्याख्यान का आयोजन – भारतीय साहित्य मानव जाति की प्राचीन ज्ञान परंपरा का दर्पण है : प्रो. अवधेश प्रधान

September 17, 2021

नई दिल्ली । ‘भारतीय साहित्य की अवधारणा भारत से जुड़ी है । भारत एक बहुनस्लीय, बहुधर्मी तथा बहुभाषी देश है । भारतीय साहित्य के संबंध सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसके तार पाकिस्तान, बांग्लादेश, चीन, तिब्बत तथा दक्षिणी एशिया से भी जुड़े हैं ।’ उक्त विचार हिंदी के सुपरिचित आलोचक एवं काशी […]

Read More

लघु पत्रिका दिवस पर संभावना द्वारा वेबिनार का आयोजन- मनुष्यधर्मी मूल्यों की स्थापना लघु पत्रिकाओं का उद्देश्यः डॉ राजीव रंजन गिरि

September 13, 2021

चित्तौड़गढ़। हिंदी साहित्य के अतीत और वर्तमान को पहचानने और विश्लेषित करने की कोई भी कोशिश, लघु-पत्रिकाओं की दुनिया पर नजर डाले बिना, पूरी नहीं हो सकती।  युवा अध्येता और दिल्ली विश्वविद्यालय में हिंदी के सहायक आचार्य डॉ राजीव रंजन गिरि ने कहा कि छोटे  छोटे शहरों-कस्बों से निकलती रहीं लघु पत्रिकाओं ने साहित्य के […]

Read More

अमेरिकी साम्राज्यवाद की साजिश को उजागर करें अपनी आज़ाद नज़र से: सईद नक़वी

September 3, 2021

– हरनाम सिंह और विनीत तिवारी   सन 1947 में हम आजाद जरूर हुए लेकिन अंग्रेजी साम्राज्यवाद और दुनिया के साम्राज्यवाद ने अप्रत्यक्ष तरह से शुरू से ही हम पर और हमारी विदेश नीति पर यह दबाव बनाए रखा कि कहीं हम सही अर्थों में लोकतांत्रिक और समाजवादी देश न बन जाएँ। नेहरू के युग और […]

Read More

अब्बास के रचनाकर्म पर केंद्रित श्रृंखला की पांचवीं कड़ीः बंगाल का अकाल और इप्टा की पहली फिल्म ‘धरती के लाल’

August 11, 2021

इप्टा ने अपने संस्थापक सदस्य ख्वाजा अहमद अब्बास की फिल्मों के तत्कालीन और वर्तमान संदर्भों के बीच सेतु बनाने के लिए पाँच कड़ियों में उनकी छह फिल्मों पर विशेषज्ञों के साथ ऑनलाइन चर्चा आयोजित की। इसकी पाँचवीं और अंतिम कड़ी में इप्टा की पहली फिल्म ‘धरती के लाल’ पर केंद्रित परिचर्चा का ऑनलाइन आयोजन हुआ। […]

Read More

संसद के कुछ किमी दूर जलाई गई दलित बच्ची, फिर भी चुप रही सरकार

August 6, 2021

वरिष्ठ पत्रकार भाषा सिंह, पहुंची दिल्ली के नांगल गांव में 9 साल की दलित बच्ची के साथ हुई बर्बर हिंसा के विरोध में चल रहे विरोध प्रदर्शन में, जिसे हटाने के लिए दिल्ली पुलिस दबाव बना रही है। वाल्मीकि समाज की बच्ची के साथ कथित तौर पर बलात्कार और फिर लाश को जलाने की बर्बर […]

Read More

हिंदू कॉलेज दिल्ली में प्रेमचंद जयंती पर वेबिनारः “आवाज में भी रोशनी होती है – प्रो अपूर्वानंद”

August 2, 2021

दिल्ली। ‘हम भी इस घृणा, नफरत, छोटेपन और ओछेपन से बाहर निकल आएंगे और हम उस सफर को जारी रख सकेंगे जो मनुष्यता का सच्चा सफर है।  किन्तु प्रेमचंद की बातों को याद रखें कि इंसान होने का भरपूर आनंद तभी ले पाएंगे जब यह आनंद समूचे समाज और समूह को मिले।’ महान कथाकार प्रेमचंद […]

Read More

प्रेमचंद की 141 वीं जयंती पर दीपों से जगमगाएगा उनका गांव लमही

July 31, 2021

प्रेमचंद की 141 वीं जयंती पर उनके गांव लमही में दीपावली मनाने की तैयारी है। लगभग 51 सौ दीयों से जयंती की शाम प्रेमचंद का लमही गांव जगमग होगा। प्रेमचंद के आवास स्मारक और शोध केंद्र को दीपों से सजाया जाएगा।लमही महोत्सव-2021 के आयोजन की जिम्मेदारी इस बार पुरातत्व विभाग को सौंपी गई है। प्रेमचंद […]

Read More

“हिना” फिल्म पर इप्टा की परिचर्चाः सरहदें बाँटती हैं तो इंसानियत जोड़ती है : अब्बास

July 28, 2021

“हिना” फिल्म इंसानियत को बयां करती दो दिलों की प्रेम कहानी है. इसमें प्रेम, इंसानियत के मूल्यों के साथ जी रहे आमलोगों की जिंदगी में मचने वाली खलबली है जो सियासत ने सरहद की लकीरें खींच कर उठाई है. ख़्वाजा अहमद अब्बास की जिंदगी का भी ये सवाल था कि चाँद को चन्द्रमा कहने से […]

Read More

अब्बास का रचनाकर्म – 3ः “हिना” फिल्म पर विमर्श 27 जुलाई को रात 8 बजे

July 27, 2021

भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) की केंद्रीय इकाई द्वारा ख़्वाजा अहमद अब्बास के रचनाकर्म पर केंद्रित कार्यक्रमों की तीसरी कड़ी में “हिना” फिल्म के ज़रिये अब्बास साहब की चिंताओं और उनके सरोकारों पर एक ज़ूम मीटिंग आयोजित की गयी जिसका फेसबुक पर इसका प्रीमियर 27 जुलाई 2021 की रात 8 बजे से 9.30 बजे तक […]

Read More

स्वयं प्रकाश स्मृति सम्मान के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

June 21, 2021

दिल्ली । साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में कार्यरत संस्थान ’स्वयं प्रकाश न्यास’ ने सुप्रसिद्ध साहित्यकार स्वयं प्रकाश की स्मृति में दिए जाने वाले वार्षिक सम्मान के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की हैं। न्यास के अध्यक्ष प्रो मोहन श्रोत्रिय ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर के इस सम्मान में क्रमशः कहानी, उपन्यास और नाटक विधा की किसी […]

Read More