आलेख

शहादत दिवस : कैसा था भगत सिंह के सपनों का भारत?

March 23, 2021

रविकान्त  ‘मुझे फाँसी हो जाने के बाद मेरे क्रांतिकारी विचारों की सुगंध हमारे इस मनोहर देश के वातावरण में व्याप्त हो जाएगी। वह नौजवानों को मदहोश करेगी और वे आज़ादी और क्रांति के लिए पागल हो उठेंगे। नौजवानों का यह पागलपन ही ब्रिटिश साम्राज्यवादियों को विनाश के कगार पर पहुँचा देगा। यह मेरा दृढ़ विश्वास […]

Read More

अंतरराष्ट्रीय संस्थाएँ क्यों गिरा रही हैं भारत की रेटिंग?

March 16, 2021

अरविंद मोहन अनेक अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों ने जब आर्थिक कामकाज और प्रदर्शन पर भारत की रेटिंग गिरानी शुरू की तो इस बार संसद में पेश आर्थिक सर्वेक्षण में बाजाप्ता इस बात की शिकायत की गई है कि हमारी आर्थिक स्थिति जैसी है वह बाहर की रेटिंग में क्यों प्रदर्शित नहीं होती। कई लोग मानते हैं […]

Read More

हिंदू होने के लिए क्या अब नफ़रत और हिंसा ज़रूरी हो गई? – अपूर्वानंद

March 15, 2021

हिंदू धर्म का और भी सरलीकरण कर दिया गया है। उसके लिए मानसिक और आध्यात्मिक श्रम की आवश्यकता नहीं। मन में अन्य धर्मावलम्बियों के लिए द्वेष होना ही पर्याप्त है। विशेषकर मुसलमानों के लिए। फिर किसी मुसलमान को अकेले देखकर उसे पीट देना, उसकी फ़िल्म बनाना और उसे चारों ओर प्रसारित करना। जितने प्राणी उसे […]

Read More

मैं श्वेत नहीं हूँ, और ज़ाहिर तौर पर मैं ‘अश्वेत’ भी नहीं हूँ

March 12, 2021

हीतेन कांति कलन हमारे पास तेज़ी से बहुलतावाद की तरफ़ आढ़ती संस्कृति के लिए उपयुक्त शब्दावली मौजूद है। तो हम लोगों पर वह लेबल क्यों लगाते हैं, जो वे हैं ही नहीं? मुझे आज भी सब कुछ स्पष्ट याद है – मैं परिवार के साथ देश की राजधानी से 4.5-5 घंटे दक्षिण में जा रहे […]

Read More

किसान-आंदोलन इस देश की जनता की सबसे बड़ी उम्मीद है

March 10, 2021

लाल बहादुर सिंह किसान आंदोलन इस देश की जनता की सबसे बड़ी उम्मीद है, महज महान प्रेरणा के रूप में ही नहीं, वरन नीतिगत बदलाव की  दिशा और सम्भावना की दृष्टि से भी। विश्व इतिहास के गम्भीर अध्येता प्रो. लाल बहादुर वर्मा के शब्दों में यह आंदोलन विश्व-इतिहास की अनूठी घटना है और इससे उचित ही लोगों को […]

Read More

हमें खाली-पीली ‘हैप्पी विमंस डे’ या महिला दिवस की बधाई सुनना अच्छा नहीं लगता

March 8, 2021

गायत्री आर्य ऑफिस में क्रेच खोलिए, मांओं को छुट्टी देने में नाक-भौं न सिकोड़िए, महिलाओं पर अश्लील चुटकुले न बनाइए. कुछ भी ऐसा करिए और तब कहिए कि आप महिलाओं का सम्मान करते हो प्रसव का दर्द और मातृत्व का सुख तब भी था जब भाषाएं और सभ्यताएं भी विकसित नहीं हुई थीं. यानी मातृत्व […]

Read More

क्या राजद्रोह और यूएपीए के बाद नए आईटी नियम असहमति को कुचलने के लिए केंद्र का नया हथियार हैं?

March 2, 2021

सिद्धार्थ गांगुली इन नियमों में जो शब्दावली उपयोग की गई है, उसके चलते नए आईटी नियमों की देश में लागू 2 बेहद विवादित और दमनकारी क़ानूनों से तुलना स्वाभाविक हो गई है। ट्विटर और वॉट्सऐप के साथ जारी मौजूदा विवाद के बीच केंद्र ने आईटी एक्ट के तहत नए नियम निकाल दिए हैं। इन नियमों […]

Read More

इंसानियत के पानी की ज़रूरत अब गुजरात के बाहर भी! – अपूर्वानंद

March 1, 2021

2002 की हिंसा ने गुजरात में विभाजन मुकम्मल कर दिया। इस हिंसा ने हम जैसे बहुत से ग़ैर गुजरातियों का परिचय गुजरात से करवाया। गुजरात में जो हो रहा था, वह हमारे राज्यों में नहीं हो सकता, इस खुशफहमी में भी हम काफ़ी वक़्त तक रहे। लेकिन वहाँ जो मुसलमानों के साथ किया गया वह […]

Read More

गोलवलकर और हमारा सत्ताधारी दल – राम पुनियानी

February 27, 2021

भारत के वर्तमान सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता भले ही हमारे धर्मनिरपेक्ष-बहुवादी और संघात्मक संविधान के नाम पर शपथ लेते हों परन्तु सच यह है कि यह पार्टी देश को आरएसएस के एजेंडे में निर्धारित दिशा में ले जा रही है. हमारे धर्मनिरपेक्ष-बहुवादी संविधान और आरएसएस के हिन्दू राष्ट्रवाद के बीच जो […]

Read More

अपने ही इतिहास से शापित एक असहाय राजनीतिज्ञ का सच बोलना

February 25, 2021

उर्मिलेश आमतौर पर दलीय-राजनीतिज्ञ इस तरह से सच नहीं बोला करते! लेकिन भाजपा वाले उनके सच बोलने से भी नाराज़ हैं। …लेकिन इतना ही नहीं अपने कहे का जवाब तलाशने के लिए राहुल गांधी को अपने उत्तर-भारतीय समाज और स्वयं अपने दलीय राजनीतिक इतिहास में झांकने की ज़रूरत है। वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश का आलेख केरल […]

Read More