विमर्श

लम्बे समय से क़ायम अमेरिका की जाति व्यवस्था पर इसाबेल विल्करसन का लेख

August 31, 2020

पुलित्जर पुरस्कार से पुरस्कृत लेखिका,इसाबेल विल्करसन द्वारा लम्बे समय से क़ायम अमेरिका की जातीय व्यवस्था पर ध्यान खींचने वाला एक लेख उनकी नयी पुस्तक, कास्ट: द लाइज़ दैट डिवाइड अस के हिस्से का एक संपादित अंश है। उस भारतीय के लिए यह लेख बेहद चौंकाने वाला है, जिसकी जाति उसके पैदा होने से लेकर मौत […]

Read More

कोविड काल में मीडिया, पुलिस और तबलीगी जमात -राम पुनियानी

August 29, 2020

सरकार द्वारा किए जा रहे तमाम प्रयासों के बावजूद देश में कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है. पूरे देश में इस रोग के प्रसार और उसके कारण लगाए गए प्रतिबंधों से एक बड़ी आबादी बहुत दुःख और परेशानियां झेल रही है. इस साल की फरवरी की शुरूआत में ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने […]

Read More

शांति निकेतन’ को तो सियासी अशांति का अखाड़ा न बनाएँ…

August 27, 2020

अजय बोकिल देश का एक अन्यतम और अत्यंत प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान, जो अगले साल अपनी स्थापना की शताब्दी मनाने जा रहा हो, वो इन दिनों घटिया राजनीति के अखाड़े में तब्दील हो चुका है। जिसके नाम में ही ‘शांति’ हो, जिसकी स्थापना एक वैश्विक संवाद केन्द्र के रूप में की गई हो, वो ‘शांति निकेतन’ […]

Read More

नफरत बेचो, मुनाफ़ा कमाओ: फेसबुक की इंडिया स्‍टोरी और उससे आगे- सुभाष गाताडे

August 24, 2020

कुछ वाकई में मनोरोगी जैसे दिख रहे थे। लोगों का बहुलांश चिथड़े लपेटे और निरक्षर किसानों का था, जो तुत्सी के प्रति नफरत की भावना से आसानी से उन्माद में आ सकते थे। मैं जिनसे मिला उनमें शायद सबसे भयावह लोग थे शिक्षित राजनीतिक अभिजात, आकर्षक व्यक्तित्व वाले और नफासत भरे स्त्री और पुरुष, जो […]

Read More

परसाई : लेखन से झांकता समय – प्रभाकर चौबे

August 22, 2020

व्यंग्य पुरोधा हरिशंकर परसाई के लेखन पर उन्हीं की परम्परा के प्रतिष्ठित व्यंग्यकार प्रभाकर चौबे का आलेख –  “मैं ऐसा मानता हूँ कि परसाई जी का लेखन भी एक्टीविज्म का एक जरूरी हिस्सा रहा । वे अपने लेखन को एक्टीविज्म के एक हिस्से के रूप में लेते थे और इसी कारण उनका लेखन मनोरंजन […]

Read More

हमारे समय के हीरो? – सुभाष गाताडे

August 18, 2020

फिलिस्तीनी कवि महमूद डारविश की कविता मेमोरी फॉर फ़ॉरगेटेबिलिटी 1982 में लेबनान पर इज़राइली आक्रमण का पीछा करती है जिसमें बेरुत, जहाँ वे खुद रहते थे पर बमबारी की गई थी। उन्होंने लिखा था कि “बेरूत, इजरायल के टैंकों और आधिकारिक तौर पर लकवाग्रस्त अरब से घिरा हुआ था,”। बेरुत बड़े धैर्य से जमा हुआ […]

Read More

रूसी कोरोना वायरस वैक्सीन: टीका-वर्चस्वाद और स्वस्थ्य सुरक्षा के खतरे

August 17, 2020

डॉ. युसुफ़ अख़्तर रूस द्वारा निर्मित स्पूतनिक-5 कोरोना वायरस वैक्सीन स्वास्थ्य संबंधी कुछ अहम चरणों की अनदेखी कर रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जनवरी, 2019, में वैश्विक स्वास्थ्य के लिए शीर्ष दस खतरों में ‘टीकाकरण के प्रति संकोच’ को बड़े खचरे के तौर पर सूचीबद्ध किया है. इसने टीकाकरण के संकोच को टीके की […]

Read More

मुर्मू की नियुक्ति सीएजी कार्यालय में नाराज़गी का कारण बन गई है

August 11, 2020

परन्जॉय गुहा ठाकुरता – जी सी मुर्मू के भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक के तौर पर नियुक्ति ने इस संवैधानिक प्राधिकार में मौजूद उच्च विभागों के क्रम को कुछ हद तक बिखेर देने का काम किया है। कई लोग इसे राजनीतिक नियुक्ति के तौर पर देख रहे हैं जिसमें उन्हें प्रधानमंत्री के साथ की […]

Read More

भारतीय संविधान का जश्न मनाओ, रौशन करो और उसकी रक्षा करो

August 8, 2020

अबान रज़ा इस संविधान में भारत के विचार को औपचारिक रूप दिया गया था और इसका उद्देश्य प्रगति का होना था। एक असाधारण दस्तावेज़ जिस पर ग़ैर-काल्पनिक ढंग से हमले किए गए और इसके बचाव में सबको कूदना पड़ा, क्योंकि इसे बचाने की ज़िम्मेदारी हम में से हर एक की है। 5 अगस्त को भारतीय […]

Read More

कोरोना: महामारी को धर्म से जोड़ने का इतिहास

August 6, 2020

 अनिल चमड़िया अंग्रेजी शासनकाल में बाल गंगाघर तिलक ने जिस तरह से प्लेग को धर्म से जोड़ा था वैसा ही कुछ हम आज कोरोना के मामले में देख रहे हैं.  कोरोना पहली ऐसी महामारी नहीं है जब उसके बहाने साम्प्रदायिकता का माहौल बनाया गया हो. एक सौ चौबीस साल पहले प्लेग के बहाने साम्प्रदायिकता […]

Read More